Patrika Hindi News

अद्भुत है मां विंध्यवासिनी के दर्शन, मनचाही मुराद होती है पूरी

Updated: IST ma vindhyavasini
मान्यताओं के अनुसार मां के हर श्रृंगार के बाद उनके अलग रूप के दर्शन होते हैं

देश के कोने-कोने से आए पांच लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने चैत्र नवरात्र की अष्टमी को 51 शक्तिपीठों में एकमात्र पूर्णपीठ मानी जाने वाली मां विंध्यवासिनी की पूर्जा अर्चना की। इस दौरान माता के जयकारे के अलावा "या देवी सर्वभूतेषू शक्ति रूपेण संस्थिता। नमस्तस्ये, नमस्तस्ये, नमस्तस्ये नमो नम:।।" मंत्र का उच्चारण लगातार गुंजायमान हो रहा है। आदिशक्ति की लीला भूमि विंध्यवासिनी धाम में सालभर श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है, पर शारदीय और चैत्र नवरात्र में यहां देश के कोने-कोने से आए भक्तों का सैलाब उमड़ा रहता है।

यह भी पढें: प्रेमिका को पाने के लिए इस मंदिर में युवा करते हैं पूजा, बच्चे-बूढ़ों को अंदर घुसने की है मनाही

यह भी पढें: बालक की तपस्या से प्रसन्न होकर प्रकट हुए थे महाकाल, दर्शन मात्र से दूर होते हैं सारे कष्ट

यहां 12 किलोमीटर के दायरे में तीन प्रमुख देवियां अष्टभुजा पहाड़ी पर अष्टभुजी देवी तो कालीखोह पहाड़ी पर महाकाली स्वरूपा चामुंडा देवी विराजमान है। इनके बीच तीसरी देवी महालक्ष्मी के रूप में मां विंध्यवासिनी विराजमान हैं। मेला अधिकारी चन्द्र प्रकाश ने बताया कि अष्टमी पूजन के अवसर पर पांच लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने मां विंध्यवासिनी के दर्शन किए। हालांकि नवरात्र के दौरान प्रतिदिन डेढ से ढाई लाख श्रद्धालु मां के दर्शन करते हैं।

मां विंध्यवासिनी मंदिर के प्रधान पुजारी मोहित मिश्रा ने बताया कि मान्यताओं के अनुसार तीनों देवियों के त्रिकोण परिक्रमा के दर्शन किए बिना विंध्याचल की यात्रा अधूरी मानी जाती है। इस पुण्य स्थल का बखान पुराणों में तपोभूमि के रूप में किया गया है। शास्त्रों और पुराणों में मां विंध्यवासिनी के ऐतिहासिक महात्म्य का अलग-अलग वर्णन किया गया है।

यह भी पढें: भगवान शिव को कभी न चढ़ाएं ये वस्तुएं, जानिए क्या हैं इनका राज

यह भी पढें: इन मंदिरों में पूरी होती हैं भक्तों की हर मन्नत, पाक मुस्लिम भी सिर झुकाते हैं

मान्यताओं के अनुसार शारदीय और वासंतिक नवरात्र में मां भगवती नौ दिनों तक मंदिर की छत के ऊपर पताका में ही विराजमान रहती हैं। हालांकि मां के दर्शन किये बगैर कोई लौटता नहीं है, लेकिन ऐसी मान्यता है कि पताका के भी दर्शन होने पर भी श्रद्धालु अपनी यात्रा पूरी मानते हैं। सोने के इस ध्वज की विशेषता है कि यह सूर्य चंद्र पताकिनी के रूप में जाना जाता है। यह निशान सिर्फ मां विंध्यवासिनी के पताका में ही होता है। नवरात्र के दिनों में मां मन्दिर की पताका पर वास करती हैं ताकि किसी वजह से मंदिर में न पहुंच पाने वालों को भी मां के दर्शन हो जाएं।

मुख्य पुजारी ने बताया कि श्रद्धालु मां विंध्यवासिनी पीठ के दर्शन तो साल के बारहों महीने करते हैं, लेकिन यहां नवरात्र का विशेष महत्व है। यहां शारदीय तथा वासंतिक नवरात्र में लगातार चौबीस घंटे मां के दर्शन होते हैं। नवरात्र के दिनों में मां के विशेष श्रृंगार के लिए मंदिर के कपाट दिन में चार बार बंद किए जाते हैं। सामान्य दिनों में मंदिर के कपाट रात 12 बजे से भोर चार बजे तक बंद रहते हैं।

प्रधान पुजारी ने बताया कि नवरात्र में महानिशा पूजन का भी अपना महत्व है। यहां अष्टमी तिथि पर वाममार्गी तथा दक्षिण मार्गी तांत्रिकों का जमावड़ा रहता है। आधी रात के बाद रोंगटे खड़े कर देने वाली पूजा शुरू होती है। तांत्रिक यहां अपनी तंत्र विद्या सिद्ध करते हैं। कुछ रामगया घाट स्थित श्मशानघाट पर पूजन करते हैं तो कुछ तांत्रिक अपनी आराध्य मां तारा देवी के मंदिर में पूजन करते हैं। साधक भैरवकुण्ड पर भैरव तंत्र की साधना करते है। वाममार्गी तांत्रिक यहां अपनी आराध्य का पूजन पंचमाकार तरीके से करते हैं। दक्षिणपंथी तंत्र साधक सात्विक पूजन करते हैं। इसमें नींबू, जायफल आदि से पूजा होती है। महानिशा पूजन को देखने के लिए भी काफी संख्या में लोग पहुंचते हैं। कमजोर दिल के व्यक्ति वाममार्गी तंत्र साधना में हिस्सा नहीं लेते।

अघोरपंथी तंत्र साधक वाममार्गी विधि से मां का पूजन करते हैं। मान्यताओं के अनुसार मां के हर श्रृंगार के बाद उनके अलग रूप के दर्शन होते हैं। मां का सबसे सुन्दर श्रृंगार रात्रि के दर्शनों में होता है। पुजारी ने बताया कि यहां के लोगों का सरल जीवन मां भगवती की भक्ति से ओतप्रोत है तथा इस क्षेत्र की लोक कलाओं का कोई सानी नहीं। जप, तप, ध्यान, ज्ञान, आस्था, संस्कृति, सभ्यता व पर्यटन की अनूठी मिसाल ङ्क्षवध्याचल सही मायने में जीने की कला सिखाता है।

यहां से कुछ ही किलोमीटर दूर चुनारघाट से लगा ऐतिहासिक चुनारगढ़ का किला है, जिससे अनेक किंवदंतियां जुड़ी हैं। तंत्र साधना की संगमे नील तंत्र पुस्तक में इस बात का वर्णन है कि जहां विंध्याचल पर्वत को पतित पावनी गंगा स्पर्श करती हैं वहीं मां विंध्यवासिनी का वास है। इस महाशक्तिपीठ में वैदिक तथा वाम मार्ग विधि से पूजन होता है।

मिश्र ने शास्त्रों का हवाला देते हुए बताया कि आदिशक्ति देवी कहीं भी पूर्णरूप में विराजमान नहीं हैं, विंध्याचल ही ऐसा स्थान है जहां देवी के पूरे विग्रह के दर्शन होते हैं। अन्य शक्तिपीठों में देवी के अलग-अलग अंगों की प्रतीक रूप में पूजा होती है। लगभग सभी पुराणों के विंध्य महात्म्य में इस बात का वर्णन है कि 51 शक्तिपीठों में मां विंध्यवासिनी ही पूर्णपीठ हैं। यहां सच्चे दिल से की गई मां की पूजा कभी बेकार नहीं जाती। हर रोज यहां हजारों लोग मत्था टेकते हैं और देवी मां का पूजन करते हैं।

दो शक्तिपीठ स्थल देश से बाहर हैं जिनमें एक नेपाल की गोहेश्वरी पीठ और दूसरी पाकिस्तान की हिंगलाज पीठ है। उन्होंने बताया कि पुरानी मान्यता है कि पुरोहितों के साथ मां के पूजन से यजमान के शरीर में मौजूद अदृश्य बुरी शक्तियां पुरोहित में स्थानांतरित हो जाती हैं। यही वजह है कि यहां लगातार पूजन करने वालों के अपने पुरोहित होते हैं। यहां मां का श्रृंगार कोई भी श्रद्धालु सामग्री देकर करा सकता है। श्रृंगार हो जाने के बाद सबसे पहले श्रृंगार कराने वाले को ही दर्शन कराए जाने की व्यवस्था है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???