Patrika Hindi News

छात्रावास में मूक बधिर छात्रा के साथ मारपीट

Updated: IST The incident was written to try to tell your stude
एक ओर जिले में बेटी पढ़ाओं, बेटी बचाओं योजना का संचालन किया जा रहा है तो दूसरी ओर छात्रावास में पढऩे वाली मूकबधिर छात्राओं के साथ यहां के अधिकारी और कर्मचारी द्वारा मारपीट की जा रही है। समीपस्थ कुण्डेश्वर ग्राम के मूकबधिर छात्रावास में एक छात्रा से मारपीट होने के बाद उसे जिला अस्पताल में भर्तीकराया गया है।

टीकमगढ़। एक ओर जिले में बेटी पढ़ाओं, बेटी बचाओं योजना का संचालन किया जा रहा है तो दूसरी ओर छात्रावास में पढऩे वाली मूकबधिर छात्राओं के साथ यहां के अधिकारी और कर्मचारी द्वारा मारपीट की जा रही है। समीपस्थ कुण्डेश्वर ग्राम के मूकबधिर छात्रावास में एक छात्रा से मारपीट होने के बाद उसे जिला अस्पताल में भर्तीकराया गया है। जबकि विभाग ऐसा कुछ होने से मना कर रहा है।

सर्व शिक्षा अभियान के द्वारा कुण्डेश्वर में एक मूकबधिर छात्राओं के लिए छात्रावास का संचालन किया जाता है। यहां पर पढऩे वाली छात्रा भावना बरार के साथ छात्रावास के ही किसी कर्मचारी द्वारा मारपीट की गई है। इसका खुलासा भी तब हुआ जब विभाग की परियोजना अधिकारी मनीषा जैन ने यहां का निरीक्षण किया। निरीक्षण करने पहुंची मनीषा जैन को छात्रावास में सब बच्चें खेलते मिले लेकिन भावना बिलकुल ही गुमशुम बैठी थी। इसका कारण जानने पर पहले तो भावना ने कुछ नही कहा बाद में उसने अपने इशारों से मारपीट होने की बात कहीं। इसके साथ ही भावना को बुखार भी था।

जिला अस्पताल में कराया भर्ती

इसके बाद मनीषा जैन ने भावना को जिला अस्पताल में भर्तीकराया। यहां पर डाक्टरों द्वारा उसका उपचार किया जा रहा है। जिला अस्पताल में भर्ती भावना भी इशारों से यह तो बता रही हैकि उसके साथ मारपीट की गई है, साथ ही वह हाथ से लिखकर भी कुछ बताने का प्रयास कर रही है। लेकिन विभाग उसके साथ मारपीटहोने की घटना से साफ इंकार कर उसे बुखार होने की बात कह रहा है।

पूरा विभाग पहुंचा अस्पताल

इस मामल के सामने आने के बाद डीपीसी हरिशचंद्र दुबे के साथ ही अन्य अधिकारी भी जिला अस्पताल पहुंचे। साथ ही इस छात्रा को जिला अस्पताल लाने वाली मनीषा जैन भी अब कुछ भी कहने से परहेज कर रही है। उनका कहना हैकि वह इस मामले में अभी कुछ नही बता सकती है। ऐसे में यह पूरा मामला संदेहास्पद बन रहा है। लोगों का कहना है कि यदि छात्रा को मामूली बुखार है तो पूरे विभाग की यहां पर आने की क्या आवश्यकता। इसके साथ ही छात्रा को अस्पताल लाने वाली परियोजना अधिकारी का कुछ न बताना संदेह पैदा कर रहा है।

कहते है अधिकारी: मैं इस मामले में अभी कुछ नही बता सकती है। मैं वहां पर निरीक्षण करने गईथी और छात्रा को भर्तीकरा दिया है। इससे ज्यादा मैं कुछ नही बता सकती हूं।- मनीषा जैन, परियोजना अधिकारी।

कहते हैअधिकारी: छात्रा के साथ मारपीट जैसा कुछ नही हुआ है। हम सभी यहीं पर है। उसे बुखार आने पर जिला अस्पताल में भर्तीकराया गया है। इसमें छुपाने जैसा कुछ नही है।- हरिशंचंद्र दुबे, डीपीसी, सर्व शिक्षा अभियान।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
More From Tikamgarh
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???