Patrika Hindi News

B'day: मिस इंडिया रही नूतन सादगी और एक्टिंग की थी मिसाल

Updated: IST
"हमारी बेटी" से अपने फिल्मी करियर की शुरूआत, बेटे मोहनिश के जन्म के वक्त फिल्मों से लिया था एक छोटा ब्रेक

नूतन को भारतीय सिनेमा के इतिहास में एक बहुत ही भावप्रवण अभिनेत्री के रूप में जाना जाता है । 4 जून 1936 को मुंबई में जन्मी नूतन ने 10 वर्षो से अधिक समय तक हिन्दी सिनेमा पर राज किया। नूतन एक ऎसे परिवार में जन्मी थी जहां का माहौल पूरी तरह से फिल्मी था। नूतन की मां शोभना समर्थ अपने समय की मशहूर अभिनेत्री थी। नूतन की बहन तनूजा (काजोल की मां) भी अपने समय की मशहूर अभिनेत्री रहीं है ।

नूतन ने वर्ष 1950 में फिल्म "हमारी बेटी" से अपने फिल्मी करियर की शुरूआत की थी। उन्होंने मिस इंडिया का खिताब भी जीता था। वर्ष 1957 में नूतन को फिल्म " पेईंग गेस्ट" के लिए बेस्ट एक्ट्रेस का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला। वर्ष 1958 में आई फिल्म "दिल्ली का ठग" में नूतन ने बिकनी पहन कर बड़े पर्दे पर आग लगा दी थी।

नूतन ने अपने बेटे मोहनिश के जन्म के वक्त फिल्मों से एक छोटा ब्रेक लिया था। वर्ष 1963 में नूतन ने फिल्म "तेरे घर के सामने" से फिल्मी दुनिया में शानदार वापसी की। इसी साल बिमल रॉय की फिल्म "बंदिनी" नूतन के करियर के मिल का पत्थर साबित हुई थी। वर्ष 1970 नूतन के लिए बहुत ही शानदार रहा। इस वर्ष नूतन की "रिश्ते-नाते", "दिल ने फिर याद किया", "मिलन" और "सरस्वतीचन्द्र" जैसी फिल्में आई।

वर्ष 1978 में फिल्म "मैं तुलसी तेरे आंगन की" में शानदार अदाकारी दिखाने के बाद नूतन ने अपना झुकाव कैरेक्टर रोल की तरफ कर लिया। वर्ष 1985 में नूतन ने "मेरी जंग" और 1986 में "कर्मा" में काम किया और तारीफ बटोरी। नूतन की आखिरी फिल्म "नसीबवाला" थी। 21 फरवरी 1991 में 54 साल की उम्र में नूतन का कैंसर की वजह से निधन हो गया।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???