Patrika Hindi News

ऐसे छोटे से खर्च में तैयार हो रहा रूफ वाटर हार्वेस्टर

Updated: IST roof water
कुछ फीट लंबा पाइप, एक फिल्टर और छोटा-सा खर्च... बस तैयार हो गया पत्रिका न्यू•ा नेटवर्क

उज्जैन. बारिश की बूंदों को सहेजकर भू-जल स्तर बढ़ाना और जलसंकट से बचना काफी आसान है। रूफ वाटर हार्वेस्टिंग की एक छोटी-सी पहल सुरक्षित भविष्य तैयार करने के लिए काफी है। सिस्टम की खास बात यह है कि कुछ फीट लंबा पाइप, फिल्टर और छोटी सी राशि खर्च कर इस सिस्टम को घर पर ही लगाया जा सकता है।

रूफ वाटर हार्वेस्टिंग को लेकर अधिकांश लोगों को भ्रंाति है कि यह महंगा और काफी तकनीकी कार्य है। इसके विपरीत, इसे लगाना बहुत ही आसान है। जिनके घर कुआं या बोरिंग है, वह तो महज तीन-चार हजार रुपए में ही जल बचाने की यह बड़ी सुविधा प्राप्त कर सकते हैं। उन लोगों के लिए तो यह और भी सस्ता और आसान है, जिनके घर बन रहे हैं। जिनके यहां बोरिंग-कुआं नहीं है, वह भी छत पर जमा होने वाला पानी को पिट (गड्ढे) के जरिए जमीन में पहुंचा सकते हैं। हालांकि इसमें खर्च थोड़ा बढ़ जाता है। पत्रिका ने विशेषज्ञ से चर्चा कर जाना, कैसे घर पर रूफ वाटर हार्वेस्टिंग लगाकर बारिश के पानी को सहेजा जा सकता है।


जहां कुआं या बोरिंग है

पाइप : तीन-चार इंच गोलाई का पाइप। लंबाई छत की ऊंचाई के अनुसार। इसकी लागत औसत 30 रुपए फीट है।

फिल्टर सेक्शन : इसे बोरिंग-कुएं के नजदीक रखें। इसका एक सिरा छत से आने वाले पाइप से जोड़ें। दूसरे सिरे पर कुछ फीट पाइप लगाकर, उस पाइप को कुएं या बोरिंग से जोड़ें। छत से आने वाला पानी फिल्टर सेक्शन से फिल्टर होकर कुएं-बोरिंग में चला जाता है। फिल्टर 1200 से 1500 रुपए में उपलब्ध हो जाता है या इसे घर भी तैयार किया जा सकता है।

(कुल तीन से चार हजार रुपए में सिस्टम स्थापित हो जाएगा)

जहां कुआं या बोरिंग नहीं है

पाइप : चार-छह इंच गोलाई का पाइप। लंबाई छत की ऊंचाई के अनुसार। इसकी लागत औसत 30 रुपए फीट है।

पिट : घर के परिसर या आसपास खुली जमीन पर गड्ढा करें। यह वहीं संभव है जहां 5-6 फीट गहराई पर मुर्रम की सतह हो। सामान्य घर के लिए 6 बाय 6 चौड़ाई व मुर्रम की सतह तक गहरा पिट काफी है।

मैटेरियल : पिट की चारों ओर ईंट की दीवार बनाएं। इसमें समान अनुपात में पहले बड़े पत्थर की लेयर, फिर छोटी गिट्टी और फिर मोटी रेत या स्टोन चूरी की परत बिछाएं। छत से आ रहे पाइप को पिट से जोड़ दें।

(कुल 6 से 8 हजार रुपए में सिस्टम स्थापित हो जाएगा।)

ऐेसे तैयार होता है फिल्टर सेक्शन

6 इंच वृत का तीन-चार फीट लंबे मजबूत पाइप से फिल्टर बनता है। पाइप में समान अनुपात में पहले मोटे पत्थर (नदी से निकलने वाले गोल चिकने पत्थर उपयुक्त) फिर गिट्टी और आखिरी में मोटी रेत या स्टोन डस्ट परत बनाएं। पाइप के दोनो छोर पर कैप लगाएं, जिसमें तीन-चार इंच का पाइप अटैच हो सके। इसके अलावा दशहरा मैदान कॉलोनी में संचालित रूपांतरण संस्था द्वारा भी लागत मूल्य पर तैयार फिल्टर उपलब्ध कराए जाते हैं। संस्था प्रमुख व विषय विशेषज्ञ राजीव पहावा सिस्टम स्थापित करने में सहयोग भी देते हैं।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???