Patrika Hindi News

शिवरात्रि: शुक्रवार को ऐसे सजे महाकाल, एक क्लिक में करें दर्शन

Updated: IST shringar darshan of mahakal today 17 february
राजाधिराज भगवान महाकालेश्वर मंदिर में शुक्रवार को अनूठा शृंगार किया गया। शिवनवरात्रि पर्व शुरू हो चुका है। नौ दिनों तक बाबा महाकाल अलग-अलग स्वरूपों में भक्तों को दर्शन देंगे।

उज्जैन. राजाधिराज भगवान महाकालेश्वर मंदिर में शुक्रवार को अनूठा शृंगार किया गया। शिवनवरात्रि पर्व शुरू हो चुका है। नौ दिनों तक बाबा महाकाल अलग-अलग स्वरूपों में भक्तों को दर्शन देंगे। भस्म आरती के दौरान बाबा का अद्भुत शृंगार किया गया। भांग और चंदन लेपन के साथ ही बाबा महाकाल पर आंकड़े के पुष्प शोभायमान थे। (यह खबर आप पत्रिका डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं)। सुबह 4 बजे हुई भस्म आरती के दौरान बाबा महाकाल का विशेष शृंगार हुआ। वस्त्रों से सज्जित बाबा महाकाल का वैभव बड़ा ही सौम्य लग रहा था। श्रद्धालुओं ने बाबा महाकाल के दर्शनों का लाभ लिया।

shringar darshan of mahakal today 17 february

पगड़ी व चंदन शृंगार
बाबा महाकाल को पगड़ी का मुकुट धारण कराया गया। भांग व चंदन का शृंगार कर सजाया गया। बाबा को दूल्हा स्वरूप में सजाया गया। जो भी देखे, वह देखता ही रह जाए। तड़के भस्म आरती के समय पंडे-पुजारियों ने बाबा महाकाल को भांग शृंगार के तहत चंदन से मुखारविंद आकृति बनाई। (यह खबर आप पत्रिका डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं)। काजू बादाम आदि से सजाकर निराकार को साकार रूप दिया। साथ ही मुंडमाला धारण कराई गई। आंकड़े के पुष्प भी शोभायमान थे।

भस्म आरती पुष्पों से सज्जित
बाबा महाकाल को जब भस्मी चढ़ाई जा रही थी, तब उन्हें पुष्पों से सजाया गया। उनका स्वरूप देखते ही बनता था। प्रतिदिन इनके अलग-अलग स्वरूपों दर्शन भक्त करते हैं। (यह खबर आप पत्रिका डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं)। भक्तों के सामने बाबा महाकाल का दिव्य रूप अतिभव्य नजर आ रहा था। इधर चारों तरफ बाबा महाकाल पर भस्मी थी, तो गले में फूलों की माला शोभा बढ़ा रही थी। उन्हें चांदी की मुंडमाला पहनाई गई।

shringar darshan of mahakal today 17 february

भोग आरती में दिव्य शृंगार
हर दिन सुबह 10.30 बजे नियमित भोग आरती होती है। शुक्रवार को बाबा महाकाल का चंदन कुमकुम से दिव्य मुखारविंद आकृति बनाई गई। (यह खबर आप पत्रिका डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं)। पंडे-पुजारी इनका अनोखा शृंगार करते हैं। फिर बाबा महाकाल को नैवेद्य का भोग अर्पण किया जाता है। भोग आरती में बाबा कुछ इस अंदाज में नजर आए।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???