Patrika Hindi News

उन्नाव में जीत के लिए भाजपा ले रही है सोशल मीडिया का सहारा

Updated: IST BJP
केंद्र सरकार की योजनाओं को जब तक सोशल मीडिया में सही तरीके से प्रचार नहीं होता। तब तक आम आदमी तक सरकार के कामकाज की जानकारी नहीं पहुंच पाएगी।

उन्नाव. केंद्र सरकार की योजनाओं को जब तक सोशल मीडिया में सही तरीके से प्रचार नहीं होता। तब तक आम आदमी तक सरकार के कामकाज की जानकारी नहीं पहुंच पाएगी। यह बात यहां सरोसी मंडल में भाजपा आईटी विभाग की मंडल स्तरीय बैठक में आईटी विभाग के जिला संयोजक संजीव त्रिवेदी ने कही। उन्होंने कहा कि अब हाइटेक का जमाना है। इसलिए प्रत्येक विधान सभा में आईटी विभाग का गठन किया जाएगा। जिसमें पार्टी के उन कार्यकर्ताओं को शामिल किया जा रहा है। जो सोशल मीडिया में सक्रिय रहकर पार्टी का प्रचार प्रसार करे। सरकार विभिन्न जन सुनवाइयों के दौरान लोगों का काम कर रही है। अनेक योजनाओं के जरिए विकास कार्य तेजी से किए जा रहे हैं। लेकिन इनका प्रचार-प्रसार पर्याप्त नहीं हो पाता।

सोशल मीडिया छह महिना आगे चलता है

पार्टी में 4 जिला सहसंयोजक 10 की टीम और सभी विधान सभा स्तर पर एम विधानसभा संयोजक दो सहसंयोजक 10 सदस्यी टीम बनेगी। मंडल स्तर पर एक मंडल संयोजक और दो सहसंयोजक बनेगी। यूपी में अगले महीनों में चुनाव होने हैं। मगर बीजेपी के आईटी सेल के लिये चुनाव आज ही होने हैं। क्योंकि आईटी सेल या सोशल मीडिया का सेल छह महीने आगे चलता है। फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया साइट्स के जरिये बीजेपी अभी से गांव-गांव, नगर-नगर पहुंचेगी।

आई टी सेल ने बनाए दो एप्लीकेशन

संजीव त्रिवेदी ने बताया कि मिशन यूपी को आगे बढ़ाने के लिये आईटी सेल ने दो एप्लीकेशन भी बनाये हैं। बीजेपी यूपी और रिपोर्टिंग एप। रिपोर्टिंग एप है इंटर कम्युनिकेशन के लिये और यह पर्सनल है। जबकि बीजेपी यूपी प्रचार के लिए है और यह पब्लिक है।

संजीव त्रिवेदी ने बताया की प्रत्येक सहरी विधान सभा में 20 वॉट्सअप ग्रुप 2 सेक्टर पर एक ग्रुप बनेगा। ग्रामीण मण्डल स्तर पर 3 सेक्टर पर एक ग्रुप बनेगा। बैठक में मंडल अध्यक्ष अमित त्रिपाठी, सेक्टर संयोजक प्रताप भान सिंह, महेश सिंह, विमलेश गुप्ता, पुन्नू तिवारी, टिंकू त्रिवेदी आदि सभी कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???