Patrika Hindi News
UP Election 2017

बीजेपी ने बदली रणनीति से होगा पीएम मोदी को फायदा, प्रत्याशी का हो सकता नुकसान

Updated: IST BJP
यूपी विधानसभा 2017 से पहले ही मिला पार्टी को सबक, जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. यूपी विधानसभा चुनाव 2017 में बीजेपी के रणनीति बदलने से पीएम नरेन्द्र मोदी को बड़ी राहत मिल गयी है। बीजेपी के नये गेम प्लान से उन प्रत्याशियों को नुकसान हो सकता है जो पीएम मोदी की लोकप्रियता के सहारे अपनी सीट जीतना चाहते थे। बीजेपी ने बिहार व दिल्ली के चुनाव से सबक लेते हुए अपनी नयी रणनीति बनायी है।
बीजेपी को बिहार व दिल्ली विधानसभा चुनाव में जबरदस्त हार का सामना करना पड़ा था। जबकि इन दो जगहों पर बीजेपी के स्टार प्रचारक पीएम नरेन्द्र मोदी ने जमकर रैली की थी, जिसके बाद पीएम मोदी की लोकप्रियता पर सवाल भी उठने लगे थे। इन दोनों जगहों के चुनाव में बीजेपी ने स्थानीय नेताओं को अधिक महत्व नहीं दिया था। बीजेपी ने अपनी गलती सुधार ली है और नयी योजना के साथ यूपी विधानसभा 2017 में पार्टी ने उतरने की तैयारी की है।

जानिए कैसे होगा पीएम नरेन्द्र मोदी को लाभ
यूपी चुनाव में अन्य राज्यों की तरह पीएम नरेन्द्र मोदी ताबड़तोड़ चुनावी रैली नहीं करेंगे। इससे बीजेपी को दो फायदा होगा। यदि यूपी चुनाव में बीजेपी की हार होती है तो यह कम रैली करने के चलते पीएम नरेन्द्र मोदी का बचाव करने में आसानी होगी। यदि चुनाव में पार्टी जीत जाती है तो यह कहने में आसानी होगी कि बिना सीएम पद के प्रत्याशी को आगे किये ही पीएम मोदी के नाम पर चुनाव जीता गया है। बीजेपी की नयी नीति से पीएम मोदी को यूपी चुनाव में बड़ा फायदा मिल सकता है। इसके अतिरिक्त बीजेपी ने अन्य राज्यों के नेताओं को यूपी में लाने की जगह स्थानीय नेताओं को चुनाव प्रचार में लगाया जायेगा। पूर्वांचल की बात की जाये तो बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या, केन्द्रीय मंत्री कलराज मिश्रा, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, सांसद योगी आदित्यनाथ, रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा, सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त, सांसद विनोद सोनकर आदि नेता चुनाव प्रचार में बहुत काम आ सकते हैं।

जानिए प्रत्याशियों को क्यों लग सकता है झटका

वर्ष 2014 संसदीय चुनाव में पीएम नरेन्द्र मोदी लहर का सबसे अधिक फायदा प्रत्याशियों को हुआ था बिना अधिक मेहनत किये ही प्रत्याशियों को जीत मिल गयी थी। पूर्वांचल की 130 सीटों की बात की जाये तो यहां के संभावित प्रत्याशियों का मानना है कि यदि पीएम मोदी की रैली उनके क्षेत्र में होती है तो उन्हें बहुत फायदा होगा। फिलहाल बीजेपी ने पीएम मोदी की कम रैली करने की तैयारी की है, ऐसे में उन प्रत्याशियों को नुकसान हो सकता है जो पीएम मोदी की रैली के सहारे चुनाव जीतने का सपना देख रहे थे।

पहले ही भर चुके हैं पूर्वांचल की झोली

पीएम नरेन्द्र मोदी ने पूर्वांचल में कई रैलियों के जरिए लोगों को सौगात दी है। पीएम के संसदीय क्षेत्र काशी में पीएम कई योजनाओं का शिलन्यास कर चुके हैं। इसके अतिरिक्त इलाहाबाद, गाजीपुर, गोरखपुर आदि जिलों में पीएम ने रैली की है। ऐसे में बीजेपी के पास अब उन जिलों पर ध्यान लगाने का मौका मिल गया है जहां पर पीएम मोदी नहीं जा पाये थे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???