Patrika Hindi News

> > > > CM Akhilesh will follow Ex PM Manmohan singh way

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की राह पर चल रहे सीएम अखिलेश 

Updated: IST CM Akhilesh yadav
पीएम की ईमानदार छवि होने के बाद यूपीए को सत्ता से बाहर होना पड़ा था।

वाराणसी. पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की तरह सीएम अखिलेश की छवि होती जा रही है। पिछले कुछ दिनों से यूपी में जो राजनीतिक घटनाक्रम हुए है उससे यह साफ हो जाता है कि सीएम अखिलेश अपनी मन की नहीं कर सकते हैं।
पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की छवि ईमानदार होने के साथ नहीं बोलने वाले नेता की थी। यूपीए ने 10 साल तक देश में शासन किया था और पीएम पद की बागडोर मनमोहन सिंह के हाथों में थी। मनमोहन सिंह पर यह आरोप लगता रहता था कि वह अपने मन से कुछ नहीं कर सकते हंै। सोनिया गांधी का जैसा निर्देश होता है उसी अनुसार मनमोहन काम करते है। अपने मंत्रीमंडल में किसी को मंत्री तक नहीं बना सकते थे और किसी मंत्री का पद भी पूर्व पीएम मनमोहन सिंह नहीं छीन सकते थे। पीएम मनमोहन की यही छवि उन पर भारी पड़ी थी। पीएम की ईमानदार छवि होने के बाद यूपीए को सत्ता से बाहर होना पड़ा था।

सीएम अखिलेश भी चल रहे पूर्व पीएम की राह पर

सीएम अखिलेश की जो स्थिति है वह पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की तरह हो चुकी है। कहने को तो सीएम अखिलेश यूपी के सीएम हैं लेकिन एक निर्णय भी अपने मन से नहीं कर सकते है। सीएम अखिलेश ने एक निजी चैनल के कार्यक्रम में यह स्वीकार किया है कि कुछ निर्णय उन्होंने अपने मन से किये थे जिसको लेकर इतना विवाद हो गया था। सीएम अखिलेश ने जिन मंत्रियों को पहले बाहर किया था उन्हें फिर वापस लेना पड़ा है। सीएम अखिलेश के करीबी लोगों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया गया है लेकिन बाद में सीएम अखिलेश को उन्हें फिर से पार्टी में वापस करना पड़ा है जिससे साफ समझ में आ जाता है कि सीएम अखिलेश कितने दयनीय हो चुके है। सीएम अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष पद छोडऩा पड़ गया है और अब उनकी वह छवि भी नहीं रह गयी है जो पहले थी। प्रदेश को एक युवा सीएम मिला था जिसकी छवि बेदाग होने के साथ काम करने वाले नेता की थी लेकिन सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के कुनबे की कलह ने सबसे अधिक नुकसान सीएम अखिलेश को पहुंचाया है। सीएम अखिलेश को जिस तरह से बेबस बना दिया गया है वह सपा के आने वाले समय के लिए ठीक नहीं है कही सीएम अखिलेश की यही बेबसी पीएम मनमोहन सिंह की तरह न हो जाये। इसके चलते यूपीए को केन्द्र की सत्ता से बाहर होना पड़ा था।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे