Patrika Hindi News

> > > > Eunuchs appeal save daughters, Do not kill unborn daughters

देश भर के हिंजड़ों ने गंगा पूजन कर लोगों से की अपील,अजन्मी बच्चियों को जन्मने दें

Updated: IST Eunuchs appeal save daughters
हिंजड़ा अखाड़ा के महामंडलेश्वर ने जारी किया अजन्मी बच्चियों को बचाने का पोस्टर, सामाजिक संस्था आगमन के अभियान को दिया हिंजड़ा अखाड़ा का समर्थन

वाराणसी. काशी के लिए शुक्रवार का दिन खास हो गया। वैसे भी शुक्रवार को मां जगदंबा का दिन माना गया है। ऐसे में जगत जननी के आशीर्वाद से ही देश भर से जुड़े हिंजड़ों ने आज काशी के प्राचीन दशाश्वमेध घाट पर बच्चियों को गर्भ में न मारने की मार्मिक अपील की आम जन से। वह भी गंगा आरती के वक्त, जब जनसमुदाय उमड़ा था घाट पर। इतना ही नहीं इससे पहले हिंजड़ा समाज ने मां गंगा की सविधि आराधना की। फिर बाबा विश्वनाथ के दरबार में मत्था भी टेका।

Eunuchs appeal save daughters

शहर में पिछले कई वर्षो से गर्भ में पल रही बच्चियों को बचाने का अभियान चला रही सामजिक संस्था आगमन ने एक बार फिर समाज को बेटियों के महत्त्व से अवगत कराने और भ्रूण ह्त्या रोकने की अपील के लिए अनोखा प्रयास किया। इसके तहत आगमन ने समाज में उपेक्षित हिंजड़ों के अखाड़े से बेटी बचाने का संदेश युक्त पोस्टर जारी कराया। इस संदेश पोस्टर में भ्रूण ह्त्या न करने के साथ भ्रूण ह्त्या को महापाप बताया गया हैं। पोस्टर लांचिग के पूर्व गंगा पूजन कर मां गंगा को साक्षी मानते हुए भ्रूण ह्त्या न करने की शपथ भी दिलायी गई।

बनारस की अनेक पहचानों में से एक पहचान गंगा तट पर गोधूलि बेला में होने वाली नित्य गंगा आरती आज एक बार फिर तब ख़ास बनी जब हिंजड़ा अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी सहित अखाड़े के तमाम पीठाधीश्वर और महंथो द्वारा समाज से भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए बेटी बचाने की अपील करते हुए भ्रूण ह्त्या रोकने का गंगा आरती में आये भक्तो और सैलानियों को शपथ दिलाने के साथ आकर्षक संदेश युक्त पोस्टर जारी किया गया । इसके पूर्व हिंजड़ा अखाड़े के लोगो ने मां गंगा का विशेष पूजन अर्चन किया और मां गंगा से बेटियों की सलामती की प्रार्थना की।

Eunuchs appeal save daughters

हिंजड़ा अखाड़ा द्वारा जारी किये गये पोस्टर को अगले छः माह में आगमन संस्था द्वारा दस हजार घरों के दरवाजों पर लगाये जाएंगे ताकि बेटा- बेटी के भेद को समाप्त करने का मार्ग प्रशस्त हो सके। जारी पोस्टर पर आगमन संस्था के साथ ही हिंजड़ा अखाडें का भी प्रतीक चिंन्ह अंकित होगा। इस अवसर पर हिंजड़ा अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी ने कहा कि भ्रूण ह्त्या समाज में फैली कुरीति है जिसे जड़ से समाप्त करना जरूरी है क्योंकि बेटियाँ रहेंगी तभी ये धरा रहेगी। बिन बेटी के इस सृष्टि का कोई अस्तित्व ही नहीं रहेगा।

इस आयोजन में हिंजड़ा अखाड़े के 50 से अधिक पीठाधीश्वर और महंथ किन्नर मौजूद रहे। गंगा आरती में गंगोत्री गंगा समिति के पं. किशोरी रमन दुबे बाबू महाराज और हिंजड़ा अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर , पीठाधीश्वर और महंथ सहित संस्था के संस्थापक सचिव डॉ संतोष ओझा ने आरती में आए श्रद्धालुयों सहित पर्यटको को भ्रूण ह्त्या न करने की शपथ भी दिलाई ।

Eunuchs appeal save daughters

इस अभियान में हिंजड़ा अखाडा के संरक्षक ऋषि अजय कुमार ,आचार्य मंडलेश्वर लक्ष्मी मणि त्रिपाठी,संग पीठाधीश्वर और महंथ जबकि आगमन से डॉ संतोष ओझा,वी पी सिंह,कपिल यादव,रजनीश सेठ,आलोक पांडेय,गोपाल शर्मा,अभिषेक जायसवाल उपस्थित रहे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे