Patrika Hindi News
UP Election 2017

क्या दोहराएगा यूपी 2012 का इतिहास,टॉप टेन जीतने वालों में पांच बाहुबली 

Updated: IST muscle power and up election
-राजा भैया ने सर्वाधिक अंतर से जीत करी थी हासिल, अभय सिंह और उमाशंकर का नाम भी टॉप टेन में

-आवेश तिवारी
वाराणसी- यह उत्तर प्रदेश की राजनीति का असली चेहरा है। यह वो चेहरा है जो बताता है कि इस हिंदी प्रदेश का हाल बेहाल क्यूँ है और क्योंकर जब कभी चुनाव आते हैं बाहुबल और धनबल की चर्चाएँ आम होने लगती है।यह यकीं करना मुश्किल होगा मगर सच है कि वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में सर्वाधिक अंतर से विजय हासिल करने वाले टॉप टेन उम्मीदवारों में से पांच उम्मीदवार अपने बाहुबल के लिए प्रदेश भर में चर्चित रहे हैं। वर्ष 2012 के चुनाव में हत्या समेत तमाम आरोपों में अदालत की कारवाईयों का सामना कर रहे राजा भैया ने कुंडा से सर्वाधिक 88 हजार 255 मतों के अंतर से जीत हासिल की थी ,वहीँ गोसाईगंज विधानसभा सीट से माफिया डॉन अभय सिंह ने बसपा प्रत्याशी को 58,681 मतों से हराकर चौथे नंबर पर रहे थे।सर्वाधिक मार्जिन से जीतने वालों में दूसरे नंबर पर समाजवादी नेता शिवपाल सिंह यादव थे,जिन्होंने जसवंतनगर विधानसभा सीट से बसपा प्रत्याशी को 81084 मतों से पराजित किया था फिलहाल शिवपाल सिंह यादव मुलायम और अखिलेश के विवाद के केंद्र में हैं,वहीँ तीसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी के महासचिव और मंत्री आजम खान थे उन्होंने रामपुर में 63 हजार से ज्यादा मतों से जीत हासिल की थी।अगर विधानसभा चुनाव के नतीजों को देखें तो पता चलता है कि सर्वाधिक मार्जिन से जीतने वाले प्रत्याशियों में ज्यादातर या तो बाहुबली थे या फिर उनके पास धनबल की ताकत थी।
टॉप टेन में कौन से दल
यूँ तो उत्तर प्रदेश में चुनाव माफियाओं की भागीदारी के लिए हमेशा से जाने जाते रहे हैं लेकिन 2012 के चुनाव में जो हुआ वो सर्वाधिक चौकाने वाला था हांलाकि इसकी चर्चा बहुत कम होती है। आंकड़ों को देखते तो पता चलता है कि सर्वाधिक मतों के अंतर से जीतने वाले प्रत्याशियों में से 6 उम्मीदवार समाजवादी पार्टी के थे ,वही भाजपा के दो ,बसपा का एक और राजा भैया के तौर पर एक अकेला निर्दलीय उम्मीदवार कुंडा सीट से जीता था।
राजा भैया की राम कहानी
पिछले चुनाव में सर्वाधिक मतों से जीतने वाले राजा भैया सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया पर पोटा, गैंगस्टर एक्ट समेत कई धाराएं लगाईं जा चुकी है कुंडा से विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया मुलायम सिंह की सरकार में पहले भी (2005 में) मंत्री रहे हैं।जेल की सजा काट चुके राजा भैया के विरुद्ध 45 आपराधिक मुकदमे लंबित हैं। वर्ष 2010 दिसंबर में एक इलाकाई नेता ने स्थानीय निकाय चुनावों के समय राजा भैया सहित एक सांसद, विधायक और विधान परिषद सदस्य समेत 13 लोगों के विरुद्ध जान से मारने के प्रयास का मामला दर्ज कराया था। इस मामले में राजा भैया को गिरफ्तार करके उनके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया। इससे पहले साल 2002 में बीजेपी विधायक पूरन सिंह बुंदेला ने अपने अपहरण करने का आरोप लगाया था। ।वर्ष 1993 में हुए विधानसभा चुनाव से कुंडा की राजनीति में कदम रखने वाले राजा भैया को उनकी सीट पर अभी तक कोई हरा नहीं सका है।इनकी छवि इलाके में तत्काल न्याय दिलाने वाले युवराज की छवि है।
अभय का आतंक
सर्वाधिक मार्जिन से जीतने वालों में शामिल समाजवादी पार्टी के गोसाईंगंज विधानसभा सीट से विधायक अभय सिंह पूर्वांचल के माफिया डान मुख्तार अंसारी के दोस्त हैं।अभय सिंह पर कुल 18 मुक़दमे दर्ज हैं इनमें से एक हत्या का, हत्या के प्रयास का दो, जान से मारने की धमकी देने के सात, आपराधिक साजिश रचने के तीन, खतरनाक हथियारों के साथ बलवा करने के तीन औऱ चार मुकमदे वसूली के लिए धमकाने के दर्ज हैं। बताया जाता है कि मुख्तार और अभय सिंह कई गुनाहों में एक-दूसरे के साथी रहे हैं। अभय सिंह की दबंगई का का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने हथियारबंद लोगों के साथ मिलकर 2005 में यूपी पुलिस के एडीजी एंटी करप्शन रमापति राय की सरकारी एंबेसडर गाडी रोककर उन्हें धमकाया था।अभय सिंह का नाम लखनऊ के सीएमओ हत्याकांड में भी उछला था,रंगदारी टैक्स वसूलने के एक मामले में उन्हें इसी माह ही बरी किया गया है
उमाशंकर और रामशरण की गाथा
रसड़ा विधानसभा सीट से जीतने वाले और टॉप टेन में शामिल उमाशंकर जो कि मायावती के कार्यकाल में प्रदेश में सड़क निर्माण के ठेकों में अपने एकछत्र राज की वजह से चर्चा में थे उमाशंकर पर हत्या के प्रयास ,हत्या और बलवा करने समेत कई गंभीर मामलों में मुकदमा दर्ज है ,कमोवेश यही हाल टॉप टेन में शामिल भाजपा के रामशरण वर्मा के खिलाफ धोखाधड़ी ,हत्या की कोशिशों के अलावा कई अलग अलग मामलों में मुक़दमा दर्ज रहा है | गोरखपुर से जीतने वाले राधा मोहन दास भी आपराधिक मामलों में मुकदमा लड़ रहे हैं
टॉप टेन सूची-
abc

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???