Patrika Hindi News

> > > > mirzapur police searching buffalo kali from one week

यूपी पुलिस के लिए सिरदर्द बनी 'काली',  ढूंढने में छूट रहे पसीने 

Updated: IST buffalo
पीड़ित ने कहा अगर मंत्री की भैस होती तो मिल जाती, गरीब की भैस हैं इसलिए पुलिस कर रही है लापरवाही

मिर्ज़ापुर. यूपी पुलिस के लिए भैंस एक बार फिर मुसीबत बनी रही है। मिर्जापुर की पुलिस लालगंज थाना क्षेत्र के वामी गांव से लापता हुई भैंस काली की तलाश में भटक रही है, मगर पुलिस को काली का अब तक पता नहीं चल पाया है।

काली को 17 सितम्बर की रात को कुछ चोर घर के बाहर से चुरा ले गए है। सूचना पर पुलिस ने उस रात पीछा भी किया था मगर चोर पुलिस से तेज निकले भैंस लेकर गायब हो गए। भैंस मालिक ने थाने में भैस चोरी होने की तहरीर दी है, शिकायत पर पुलिस अब काली की तलाश कर रही है। मगर पुलिस की मुसीबत यह है कि काली को ढूढ़े कहा। वही पीड़ित भैस मालिक का कहना है की मंत्री की भैस होती तो पुलिस वाले खोज निकालते गरीब की भैस है इसलिए नहीं मिल रही है।

घटना लालगंज थाना क्षेत्र के वामी गांव की है, जहां 17 सितंबर की रात में शम्सुद्दीन की भैस घर के बाहर खूंटे में बंधी थी, जिसे रात करीब 12 बजे के आसपास आये चोर अपनी पिकअप गाड़ी में डाल कर ले गए घटना की जानकारी होते ही शम्सुद्दीन ने लहनपुर चौकी को सूचना दिया। पुलिस ने चोरों का पीछा करना शुरू कर दिया मगर चोर पुलिस से भी तेज निकले पकड़ में नहीं आये। परेशान शम्सुद्दीन ने काली की चोरी की तहरीर पुलिस चौकी में दी मगर अभी तक उनकी भैस नहीं मिल पाई।

पीड़ित का कहना है कि पुलिस दस मिनट पहले सक्रिय होती तो भैंस मिल जाती साथ ही वही उनका दर्द था अगर मंत्री की भैस होती तो मिल जाती मगर गरीब की भैस है इस लिए पुलिस नहीं खोज रही है। वही पुरे मामले पर क्षेत्राधिकारी लालगंज अखिलेश राय का कहना है की भैस चोरी की शिकायत मिली है उस पर जो भी वैधानिक कार्रवाई है की जा रही है ।

फिलहाल काली की चोरी अब मिर्ज़ापुर पुलिस के गले की हड्डी बन गयी है।पुलिस ने पीड़ित को काली की जगह दूसरी भैंस देने का आश्वासन भी दिया है मगर भैस मालिक अड़ गया उसे सिर्फ अपनी काली चाहिए पुलिस ने दो दिन में काली के मिलने की बात कर तलाश शुरू कर दी है । देखना होगा मंत्री की भैस खोजने में वाली पुलिस गरीब की भैस कब तक खोज पाती है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे