Patrika Hindi News
UP Election 2017

BREAKING-तारिक फतह का बड़ा बयान कहा पीएम मोदी को मिलता है मुसलमानों का साथ 

Updated: IST Tarek Fatah
मुसलमानों को नहीं समझ में आ रहा है तो चले जाये पाकिस्तान, जानिए सीएम अखिलेश और गांधी परिवार पर क्या दी अपनी राय

वाराणसी. पाकिस्तानी मूल के कनाडाई लेखक तारिक फतह ने एक बार फिर धर्म के नाम पर आंतकवाद करने वालों पर जमकर हमला बोला है। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में शुक्रवार को आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने के बाद मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि अल्लाह का इस्लाम मानना चाहिए, मुल्ला का नहीं। आतंकवाद का धर्म से नाता होता है। पीएम मोदी को गुजरात में मुसलमानों का वोट मिलता है।
उन्होंने कहा कि मुस्लिम किस पार्टी को वोट दे प्रश्र पर तारिख फतह ने कहा कि मैं कौन होता हूं यह बताने वाला। यहां पर सीपीएलएम से जमाते इस्लामी तक लड़ रहे चुनाव। मुसलमान पढ़े लिखे नहीं है क्या। यदि समझ नहीं आता है तो चले जाये पाकिस्तान वहां पर वोट देने का सिलसिला ही नहीं होता है बटेरों की तरह जिंदगी जीये। आतंकवाद का धर्म से ताल्लुक प्रश्र पर मुस्कुराते हुए तारिख ने कहा कि आतंकवाद से धर्म का ताल्लुक है और किसका ताल्लुख है आईफोन का तो ताल्लुक हो नहीं सकता है कट्टरपंथी आतंकवाद को प्रश्य देते हैं कि प्रश्र पर कहा कि जिसके जेहन में यह हो जाये कि जिंदगी मौत के बाद शुरू होती है। तो जीवन का मूल्य ही खत्म हो जाता है। आपके यहां सारे बच्चे एमबीए कर रहे हैं और दुश्मन देश के बच्चे सुसाइड बॉम्बर बनना चाहते हैं। वकील और गुंडे की लड़ाई में वकील कब जीता है। देवबंद मदरसा के संदर्भ में तारिक फतह ने कहा कि मुहमद गजनवी के नाम पर देवबंद मदरसा बनाया गया है और वह लोग खुद कहते हैं कि हमने ऐसे लोग के नाम पर देवबंद मदरसा बनाया है जिसने सोमनाथ को 16 बार लूटा है उसके नाम पर मदरसा बना दिया है। अंग्रेजी में लिखा है आपने पढ़ा ही नही। बहुत हो चुका है अल्लाह का इस्लाम मान लो। मुल्ला का इस्लाम नहीं। अब बस करे लोग, मुसलमान बहुत जलील हो चुके हैं न आगे जा रहे हैं औ ना पीछे जा पा रहे है बस फंसे हुए हैं। सफेद बुर्का होता था दिल्ली अब अरबो का काला बुर्का हो गया है।

सपा परिवार की लड़ाई पर कहा कि नहीं खत्म हुई जमींदारी प्रथा

तारिक फतह ने कहा कि यूपी का चुनाव बंदर का नाच हो गया है। सभी कहते हैं कि मुसलमान मेरे साथ है ऐसे राजनीतिक दलों को अपने दम पर चुनाव लडऩा चाहिए। सपा कुनबे की कलह पर कहा कि यहां पर जमींदारी प्रथा अभी खत्म नहीं हुई है। यहां पर यादव खानदान में कुर्सी के लिए जमींदारों की तरह लड़ाई हो रही है यही हाल गांधी खानदान का भी है।

तैमूर तो रख लिया पर नहीं रख सकते हैं सूरज नाम
सैफ अली व करीना कपूर के बेटे के नाम तैमूर रखने के प्रश्र पर तारिक फतह ने कहा कि यहां पर लोग तैमूर नाम रख लेते हैं लेकिन मुस्लिम सूरज नाम नहीं रखते हैं। पहले लोगों को तैमूर के इतिहास की जानकारी भी होनी चाहिए।

पीएम मोदी को गुजरात में मिलता है मुस्लिमों का साथ
विभिन्न राजनीतिक दलों को पीएम नरेन्द्र विरोधी कहने के प्रश्र पर उन्होंने कहा कि उनकी मर्जी है जो कुछ भी कहते हरे। शुक्र है गर्दन काटने की बात नहीं करते है। जो भी इलजाम लगा दे। यह दंगल है। पीएम को गुजरात में मुस्लिमों का साथ मिलता है।

मौलवियों के बेटियों को मिले तीन तलाक तो खत्म हो जाये प्रथा

तारिक फतह ने कहा कि तलाक के नाम पर नाबालिग बच्चियों का शोषण किया जाता है। बीबी को चाहिए कि वह अपने शौहर को तीन तलाक दे दे। जिस दिन मौलवियों की बेटियों को तीन तलाक मिलने लगेगा, उसी दिन यह प्रथा खत्म हो जायेगी।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???