Patrika Hindi News

नोटबंदी के बाद फिर पीएम मोदी की होगी परीक्षा, क्या जनता देगी साथ

Updated: IST PM Modi
लोगों हो रहे बैचेन, जानिए क्या है मामला

वाराणसी. पीएम नरेन्द्र मोदी की नोटबंदी आम आदमी पर तगड़ी मार पडऩे वाली है। पीएम के अभियान को जनता का बड़ा तबका समर्थन दिया हुआ है लेकिन स्थिति नहीं सुधरी तो पीएम के निर्णय को तगड़ा झटका लग सकता है।
पीएम नरेन्द्र मोदी ने आठ नवम्बर को 500 व 1000 रुपये के नोटबंदी की घोषणा की थी। आम आदमी का जीवन वेतन व पेंशन से ही चलता है। पीएम मोदी ने जब नोटबंदी की घोषणा की थी उस समय अधिकांश लोगों ने वेतन व पेंशन को बैंक से निकाल लिया था और जो बचा हुआ पैसा था वह भी निकालने में बहुत अधिक समस्या नहीं हुई। आम लोगों को अधिक दिक्कत नहीं हुई थी जिसके चलते नोटबंदी का विरोध कर रहे विपक्षी दलों को भी जनता का समर्थन नहीं मिला था लेकिन अब कहानी बदल सकती है। 1 दिसम्बर को सबका वेतन व पेंशन आ जायेगा। एक साथ वह वेतन व पेंशन की धनराशि नहीं निकाल पायेंगे। ऐसे में उन्हें परेशान होना स्वाभाविक है। बैंकों में भी इतनी नगदी नहीं है कि वह सभी को मांग के अनुसार पैसा दे सके। ऐसे में लोग परेशान हो रहे है यदि बैंकों से सभी को पैसा नहीं मिला तो पीएम के अभियान को झटका भी लग सकता है।

एटीएम में भी पैसा का आभाव
केन्द्र सरकार के पास नये व छोटे नोटों का सख्त आभाव है इसलिए एटीएम भी थोड़ी देर नोट उगलने के बाद ठंडे हो जा रहे हैं। वेतन व पेंशन निकालने के लिए जब बैंकों व एटीएम में लम्बी लाइन लगेगी तो उसे संभालना सबके लिए कठिन होगा। खास बात है कि जो आम आदमी को माह भर का खर्च चलाना है इसलिए वह एक बार में अधिक से अधिक नगदी निकालने का प्रसास करेंगा। इसके चलते बैंकों में नगदी खत्म हो जायेगी और भीड़ में लगे लोगों को बैरंग ही लौटना पड़ सकता है।

2000 के नोट का नहीं हो रहा फुटकर

एटीएम से 2000 हजार के नोट निकल रहे हैं। इसका फुटकर कराना भी बहुत कठिन है। पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र की बात की जाये तो यहां पर अभी 500 की नोट सबको नहीं मिल पा रही है इससे भी लोगों की समस्या बढ़ गयी है। नोटबंदी के बाद पीएम मोदी की सबसे बड़ी परीक्षा 1 दिसम्बर से शुरू होने वाली है अब देखना है कि जनता अपने पीएम का और कितना साथ देती है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???