Patrika Hindi News

SSP ने कहा साम्प्रदायिक माहौल खराब करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई

Updated: IST IPS Ramkrishna Bhardwaj
अफवाह फैलने से बिगड़ी स्थिति, जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. सिगरा थाना क्षेत्र के काशी विद्यापीठ के पास हुए हुए उपद्रव को एसएसपी रामकृष्ण भारद्वाज ने गंभीरता से लिया है। सोमवार को एसएसपी ने कहा कि घटना के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है। एसएसपी ने कहा कि मुख्य साजिशकर्ता को गिरफ्तार कर लिया गया है और जो अन्य लोग बचे हैं उन्हें भी जल्द ही जेल भेजा जायेगा।

एसएसपी ने कहा कि एक घंटे के अंदर ही सारा माहौल बिगड़ गया था। कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर एक धर्म विशेष के उपासना स्थल को लेकर अफवाह फैला दी। इसके बाद मौके पर पहुंचे लोगों ने सही बात को समझा नहीं और उपद्रव करने लगे। एसएसपी ने कहा कि मीडिया से मिली फोटो व सीसीटीवी फुटेज के आधार पर उपद्रवियों की पहचान की जा रही है। जल्द ही सारे जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई की जायेगी।

बीजेपी विधायक की नहीं है काई भूमिका

एसएसपी ने कहा कि बीजेपी विधायक प्रो.अवधेश सिंह को लेकर भी अफवाह फैलायी गयी थी। बीजेपी विधायक का घटना से कोई लेना देना नहीं है। एसएसपी ने कहा कि उपासना स्थल को लेकर भी भ्रम फैलाया गया था। सारी बाते निराधर है। शहर की शांति व्यवस्था के साथ किसी को खिलवाड़ नहीं करने दिया जायेगा।

इनके खिलाफ सिगरा थाने में दर्ज हुआ मुकदमा

रविवार की रात्रि की घटना को लेकर सिगरा थाने में पुलिस ने खुर्शीद, मेहताब, बाबु व इ्रदीश के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है, जबकि अधिवक्ता महेन्द्र सिंह की तरफ से सज्जाद, खुर्शीद, राजू, रिंकू, सरफराज, बबलू, मुख्तार, मुंशी, तौफिक व सैकड़ों अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।
महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के पास गाय बांधने को लेकर हुए विवाद के चलते बवाल हो गया था। अराजक तत्वों ने इस मामले को साम्प्रदायिक रंग देने का भी प्रयास किया था। उपद्रवियों ने पुलिस व राहगिरों पर पथराव किया था। स्थित इतनी बिगड़ गयी थी उपद्रवियों को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोडऩे पड़े थे और लाठीचार्ज तक करना पड़ा था। एसपी सिटी दिनेश सिंह ने स्थिति संभाली और माहौल को नियंत्रित किया।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???