Patrika Hindi News

गणपति स्रोत के स्मरण मात्र से दूर होती है शनि, राहू, केतु की बाधा, पूरी होती है हर इच्छा भी

Updated: IST how to worship ganeshji
भगवान गणपति स्रोत की आराधना से बड़े से बड़े कष्ट भी सहजता से दूर हो जाते हैं

भगवान गणपति की आराधना से बड़े से बड़े कष्ट भी सहजता से दूर हो जाते हैं। गणपति स्रोत भी ऐसा ही एक जागृत मंत्र है। इसके जप मात्र से ही सारे बिगड़े काम बन जाते हैं और सभी इच्छाएं पूरी होती हैं।

गणपति स्रोत

सरागिलोकदुर्लभं विरागिलोकपूजितं सुरासुरैर्नमस्कृतं जरापमृत्युनाशकम्।

गिरा गुरुं श्रिया हरिं जयन्ति यत्पदार्चकाः नमामि तं गणाधिपं कृपापयः पयोनिधिम् ॥1॥

गिरीन्द्रजामुखाम्बुज प्रमोददान भास्करं रीन्द्रवक्त्रमानताघसङ्घवारणोद्यतम्।

सरीसृपेश बद्धकुक्षिमाश्रयामि सन्ततं शरीरकान्ति निर्जिताब्जबन्धुबालसन्ततिम् ॥2॥

शुकादिमौनिवन्दितं गकारवाच्यमक्षरं प्रकाममिष्टदायिनं सकामनम्रपङ्क्तये।

चकासतं चतुर्भुजैः विकासिपद्मपूजितं प्रकाशितात्मतत्वकं नमाम्यहं गणाधिपम् ॥3॥

नराधिपत्वदायकं स्वरादिलोकनायकं ज्वरादिरोगवारकं निराकृतासुरव्रजम्।

कराम्बुजोल्लसत्सृणिं विकारशून्यमानसैः हृदासदाविभावितं मुदा नमामि विघ्नपम् ॥4॥

श्रमापनोदनक्षमं समाहितान्तरात्मनां सुमादिभिः सदार्चितं क्षमानिधिं गणाधिपम्।

रमाधवादिपूजितं यमान्तकात्मसम्भवं शमादिषड्गुणप्रदं नमामि तं विभूतये ॥5॥

गणाधिपस्य पञ्चकं नृणामभीष्टदायकं प्रणामपूर्वकं जनाः पठन्ति ये मुदायुताः।

भवन्ति ते विदां पुरः प्रगीतवैभवाजवात् चिरायुषोऽधिकः श्रियस्सुसूनवो न संशयः ॥6॥

यह भी पढें: घर में घड़ी और कैलेंडर इस जगह लगाएं, कुछ ही दिनों में होंगे मालामाल

यह भी पढें: भगवान शिव की 5 बातें जो कोई नहीं जानता

ऐसे करें प्रयोग

सुबह स्नान आदि से निवृत्त होकर भगवान गणेशजी की आराधना करें। तत्पश्चात एकाग्रचित्त होकर उनका ध्यान करते हुए इस मंत्र का 7 या 11 बार जप करें। इस मंत्र के जाप से सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है और दुर्भाग्य का नाश होकर सौभाग्य, यश, धन की प्राप्ति होती है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???