Patrika Hindi News

रोगों से मुक्ति दिलाती है मां शीतला, ऐसे करें पूजा

Updated: IST shitla saptami 2017
शीतला माता की पूजा-आराधना करने से ज्वर, चेचक, कुष्ठ रोग, फोड़े-फुंसियां तथा अन्य चर्म रोगों से राहत मिलती है

सनातन धर्म में प्राचीन काल से ही दैहिक, दैविक एवं भौतिक कष्टों के निवारण के लिए देवी-देवताओं की अलग-अलग रूपों में पूजा करने का विधान अनेक धर्मशास्त्रों में बताया गया है। ऐसा ही एक रूप है भगवती स्वरूपा मां शीतला देवी का, जिनकी आराधना अनेक संक्रामक रोगों से मुक्ति प्रदान करती है। मां शीतला देवी की पूजा चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को की जाती है। इस वर्ष यह पर्व 20 मार्च (सोमवार) को मनाया जाएगा।

यह भी पढें: अगर महिलाएं ऐसे लगाएं मांग में सिंदूर, तो पति बन जाता है सौभाग्यशाली, करता है मौज

यह भी पढें: रात में जो भी इस मंदिर में रूका, उसकी हो जाती है मौत, 52 शक्तिपीठों में एक है

यह भी पढें: 51 शक्तिपीठों में एक हैं वाराही देवी, दर्शन मात्र से ठीक हो जाती हैं बीमारियां

पूजा में छिपा स्वास्थ्य रक्षा का संदेश

भगवती शीतला की पूजा-अर्चना का विधान भी अनोखा होता है। शीतलाष्टमी के एक दिन पूर्व उन्हें भोग लगाने के लिए विभिन्न प्रकार के पकवान तैयार किए जाते हैं। अष्टमी के दिन बासी पकवान ही देवी को समर्पित किए जाते हैं। सभी भक्त प्रसाद के रूप में बासी भोजन का ही आनंद लेते हैं। इसके पीछे तर्क यह है कि इस समय से ही बसंत की विदाई होती है और ग्रीष्म का आगमन होता है। इसलिए अब यहां से आगे हमें बासी भोजन से परहेज करना चाहिए। शीतला माता के पूजन के बाद उस जल से आंखें धोई जाती हैं। यह परंपरा गर्मियों में आंखों का ध्यान रखने की हिदायत का संकेत है। माता का पूजन करने के बाद हल्दी का तिलक लगाया जाता है। हल्दी का पीला रंग मन को प्रसन्नता देकर सकारात्मकता को बढ़ाता है।

स्वच्छता की प्रतीक शीतला मां

शास्त्रों में शीतला देवी का वाहन गर्दभ बताया गया है। मां का स्वरूप हाथों में कलश, सूप, मार्जन (झाड़ू) तथा नीम के पत्ते धारण किए हुए चित्रित किया गया है। हाथ में मार्जनी होने का अर्थ है कि हम सभी को सफाई के प्रति जागरूक होना चाहिए। सूप से स्वच्छ भोजन करने की प्रेरणा मिलती है क्योंकि ज्यादातर बीमारियां दूषित भोजन करने से ही होती हैं। कलश में सभी तैतीस करोड़ देवताओं का वास रहता है, अत: इसके स्थापन-पूजन से घर-परिवार में समृद्धि आती है।

मां की वंदना रखेगी रोगमुक्त

मां की अर्चना का स्त्रोत शीतलाष्टक के रूप में मिलता है। कहते हैं इस स्त्रोत की रचना स्वयं भगवान शंकर ने की थी। शीतलाष्टक शीतला देवी की महिमा का गान करता है, साथ ही उनकी उपासना के लिए भक्तों को प्रेरित भी करता है। मान्यता है कि नेत्र रोग, ज्वर,चेचक, कुष्ठ रोग, फोड़े-फुंसियां तथा अन्य चर्म रोगों से आहत होने पर मां की आराधना रोगमुक्त कर देती है। इनकी कृपा से जीवन में सुख-शांति मिलती है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???