कांगो: दो दिन में हुई थी 890 मौत, अब बरामद हुई 50 सामूहिक कब्रें

शनिवार को संयुक्त राष्ट्र के एक मानवाधिकार समूह की ओर से इस बारे में जानकारी दी गई।

By: Shweta Singh

Published: 28 Jan 2019, 01:25 PM IST

किन्शासा। पश्चिमी डीआर कांगो में बीते काफी समय से हिंसा की खबरें आ रही हैं। अब इसी बीच एक और चौंकाने वाली खबर सामने आई है। दरअसल वहां 50 से अधिक सामूहिक कब्रों के बारे में खुलासा हुआ है। शनिवार को संयुक्त राष्ट्र के एक मानवाधिकार समूह की ओर से इस बारे में जानकारी दी गई।

50 से अधिक सामूहिक कब्रों का खुलासा

मीडिया रिपोर्ट्स में डीआरसी में तैनात यूएन ह्यूमन राइट जॉइंट ऑफिस (यूएनजेएचआरओ) के निदेशक अब्दुल अजीज थियोये के हवाले से जानकारी दी जा रही है कि 50 से अधिक सामूहिक कब्रों का पता लगा है। ये कब्रें पश्चिमी मे-दोमबे प्रांत के युम्बी में पाई गई हैं। निदेशक ने ये भी कहा कि पहचान की गई कब्रों में से कुछ संयुक्त और कुछ निजी कब्रों शामिल हैं। बताया जा रहा है कि कांगो के स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर एक संयुक्त तथ्यान्वेषी मिशन (जॉइंट फैक्ट फाइनडिंग मिशन) चलाया गया है।

दो दिनों के अंदर ही 890 लोगों की हुई थी मौत

इससे पहले 17 जनवरी को भी संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय की ओर से जानकारी दी गई थी कि इस क्षेत्र में सामुदायिक हिंसा के चलते एक महीने के अंदर ही करीब 890 लोगों की जान जा चुकी है। आपको बता दें कि पिछले साल माई-डोंबे प्रांत के युम्बी के चार गांवों में बनुनू और बाटेंडे समुदायों के बीच संघर्ष हुई थे। संरा मानवाधिकार कार्यालय के मुताबिक इससे हुई हिंसा में महज दो दिनों के भीतर ही (16 से 18 दिसंबर 2018 के बीच) 890 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। इसके अलावा हिंसा से बचने के लिए एक बड़ी तादाद में लोगों को पलायन भी करना पड़ा। बता दें कि उस वक्त हिंसा इतनी अधिक बढ़ गई थी कि राष्ट्रपति पद का चुनाव भी टालना पड़ा था।

Show More
Shweta Singh Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned