World Recap 2018: अफ्रीका में सालभर की बड़ी घटनाएं पढ़ें एक क्लिक में यहां

World Recap 2018: अफ्रीका में सालभर की बड़ी घटनाएं पढ़ें एक क्लिक में यहां

Shweta Singh | Publish: Dec, 27 2018 07:03:59 PM (IST) | Updated: Dec, 27 2018 07:04:00 PM (IST) अफ्रीका

साल के अंत में जानिए अफ्रीता के कुछ मामलों के बारे में।

नई दिल्ली। साल 2018 में अफ्रीका में कई ऐसे मामले आए जिसने पूरी दुनिया को हैरान करके रख दिया। कभी दंगों का फायदा उठाकर कैदी फरार हो गए तो कभी मोरक्को के शाह ने खुद-बखुद सैंकड़ों कैदियों को जीवनदान दे दिया। अब साल के अंत में हम आपको ऐसे ही कुछ मामलों के बारे में बताने जा रहे हैं।

- इस साल की सबसे बड़ी घटना जिसने पूरे देश को हिला दिया, उसमें राष्ट्रपति भवन के पास हुए दो आत्मघाती सबसे मुख्य है। बीते शनिवार को सोमालिया की राजधानी में राष्ट्रपति भवन के पास दो बड़े आत्मघाती कार हमले में करीब 15 लोगों की जान चली गई।

पूरी खबर यहां पढ़ें- सोमालिया: राष्ट्रपति भवन के पास दो बड़े आत्मघाती हमले, उपराज्यपाल के सात अंगरक्षकों समेत 15 की मौत

- वहीं सितंबर में लीबिया के आइन जारा जेल में कैदियों के बीच झड़प हो गई। इस दौरान फायरिंग की आवाज सुनाई दी, जिस बीच 400 कैदी जेल छोड़कर भागने में कामयाब रहे।' इस संबंध में पुलिस अधिकारियों द्वारा जारी बयान के मुताबिक, 'कैदी जेल के दरवाजे को खोलने में कामयाब रहे, जिसके बाद वो फरार हो गए।'

पूरी खबर यहां पढ़ें- लीबिया: सुरक्षाबलों और लड़ाकों के बीच चल रहा था संघर्ष, मौका देख 400 कैदी जेल से फरार

- इस साल मिस्र में इंटरनेट और सोशल मीडिया को सरकार के शिंकजे में कसने के लिए वहां के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी ने इंटरनेट पर इस संबंध में एक कानून का पास किया। इसके तहत इस कानून में प्रावधान है कि देश के सुप्रीम काउंसिल फॉर मीडिया रेगुलेशन के पास ये अधिकार होगा कि वह सोशल मीडिया, वेबसाइट या ब्लॉग पर 5,000 से ज्यादा फॉलोअर्स वाले लोगों के अकाउंट्स की गतिविधियों जैसे पोस्ट, कमेंट्स आदि पर अपनी निगरानी रख सकते हैं।

पूरी खबर यहां पढ़ें- मिस्र: सोशल मीडिया पर सरकारी लगाम से संबंधित कानून पारित, मानावधिकार समूहों ने दागे सवाल

- भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया को उस वक्त गहरा धक्का लगा था जब अचानक 17 अगस्त 2018 को भारत के पूर्व प्रधानमंत्री रहे भारत रत्न अटल विहारी बाजपेयी जी का निधन हो गया था। इस कारण देशभर में शोक की लहर दौड़ गई थी। उसी दौरान मॉरीशस में अटल विहारी बाजपेयी की याद मेंं महाआरती का आयोजन कराया गया था।

पूरी खबर यहां पढ़ें- अटल विहारी बाजपेयी की याद में मॉरीशस में की गई महाआरती

- एक ओर भारत के दिग्गज नेता रहे बाजपेयी जी का इस तरह सम्मान हुआ तो दूसरी ओर अफ्रीका के ही घाना में कुछ छात्रों ने प्रदर्शन कर के वहां के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय में लगी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा को हटवा दिया। शिकायतें की गई थीं कि अश्वेत अफ्रीकी लोगों के खिलाफ गांधी नस्लवादी थे। भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने इस प्रतिमा का अनावरण किया था।

पूरी खबर यहां पढ़ें- छात्रों के विरोध के बाद महात्मा गांधी की प्रतिमा को हटाया गया, कहा- वह नस्लवादी थे

- इस बड़ी खबरों के अलावा इस साल अफ्रीका के अलग-अलग देशों से ऐसे कई मामले सामने आए, जिसने सबको हैरानी में डाल दिया। मोरक्को के शाह मोहम्मद (VI) ने इस साल अगस्त में 450 कैदियों को क्षमादान देने का फैसला लिया। आप जानकर दंग रह जाएंगे कि क्षमादान मिले इन कैदियों में से 22 कैदी चरमपंथ और आतंकवाद के दोषी हैं।

पूरी खबर यहां पढ़ें- मोरक्को: कैदियों पर मेहरबान हुए देश के शाह, 450 को दिया क्षमादान

- वहीं, दिसंबर में एक मामला सामने आया जिसके मुताबिक मिस्त्र में एक डेनिश दंपति से गिजा के द ग्रेट खुफू पिरामिड के शीर्ष पर चढ़कर नग्न होकर तस्वीरें खींचवाई। इस मामले का एक वीडियो और तस्वीर सामने आने के बाद लोग भड़क गए।

पूरी खबर यहां पढ़ें- मिस्र : पिरामिड पर चढ़कर अश्लील तस्वीरें खिंचवाना दंपत्ति को पड़ा महंगा

- इस साल राष्ट्रपति भवन के अलावा कई सरकारी और गैर-सरकारी इमारत और संस्थानें उपद्रवियों के निशाने पर रहे। लीबिया में विदेश मंत्रालय के मुख्यालय पर हमला होने के कारण वहां दस लोगों की मौत हो गई, जबकि इस दौरान तीन लोग घायल हो गए।

पूरी खबर यहां पढ़ें- लीबियाः विदेश मंत्रालय के मुख्यालय पर आतंकी हमला, 3 लोगों की मौत, 10 घायल

- यमन से कुपोषण का मामला सामने आया जिसने सबको अंदर तक झकझोर दिया। एक रिपोर्ट में बताया गया कि कुपोषण के कारण 85 हजार बच्चों की भूखे रहने के कारण मौत हो गई। इसके अलावा एक अन्य रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि इबोला के कारण वहां के 200 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

पूरी खबर यहां पढ़ें- यमनः धार्मिक संगठन का दावा, तीन साल में कुपोषण से 85 हजार बच्चों की मौत

पूरी खबर यहां पढ़ें- इबोला के कहर से जा चुकी हैं 200 से ज्यादा जानें, फिर भी रेस्क्यू टीम पर हमला कर रहे लोग

- इस साल नाइजीरिया के राष्ट्रपति चुनावों में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया। दरअसल, चुनाव लड़ने के लिए 79 प्रत्याशी सामने आए।

पूरी खबर यहां पढ़ें- नाइजीरिया में 79 प्रत्याशी लड़ेंगे राष्ट्रपति चुनाव

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned