जिम्बाब्वे में राष्ट्रपति चुनाव: मई के अंत में होगा तारीखों का ऐलान

जिम्बाब्वे में राष्ट्रपति चुनाव: मई के अंत में होगा तारीखों का ऐलान

Siddharth Priyadarshi | Publish: May, 20 2018 02:19:42 PM (IST) अफ्रीका

जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति एमरसन मनांगाग्वा ने कहा कि वह मई महीने के अंत में 2018 में होने वाले चुनाव की तारीखों का ऐलान करेंगे

हरारे। जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति एमरसन मनांगाग्वा ने कहा कि वह मई महीने के अंत में 2018 में होने वाले चुनाव की तारीखों का ऐलान करेंगे। समाचार एजेंसी के मुताबिक सत्तारूढ़ पार्टी जिम्बाब्वे अफ्रीकी नेशनल यूनियन-पैट्रियटिक्स फ्रंट (जेडएएनयू-पीएफ) के अध्यक्ष और वर्तमान राष्ट्रपति मनांगाग्वा ने शुक्रवार को चुनाव प्रचार की शुरुआत की। प्रचार अभियान को शुरू करते हुए मेनकालैंड प्रांत के मुतारे में शनिवार को एक रैली में राष्ट्रपति ने कहा कि चुनाव तारीखों का ऐलान होते ही पार्टी अपना प्रचार अभियान तेज कर देगी।

एचडी कुमारस्वामी के सीएम बनने से उछाल पर विपक्ष की उम्मीदें, शुरू हुई 2019 की तैयारी

अगस्त में होंगे चुनाव

बता दें कि देश के संविधान के मुताबिक चुनाव 21 जुलाई से 21 अगस्त के बीच हो जाने चाहिए। पिछले सप्ताह ही जिम्बाब्वे की संसद ने चुनावी संशोधन विधेयक पारित किया था, जिसे अब कानून बनने के लिए राष्ट्रपति की सहमति का इंतजार है।इस विधेयक से राष्ट्रीय चुनाव निकाय द्वारा पहली बार तैयार किए गए बायोमीट्रिक मतदाता पंजीकरण प्रणाली देश में लागू हो जाएगी।

तैयारियों में जुटीं पार्टियां

उधर जिम्बाब्वे में राजनीतिक दल चुनाव के लिए तैयारी कर रहे हैं। इस बीच, जेडएएनयू-पीएफ ने अपने उम्मीदवारों का चयन पूरा कर लिया है जबकि मुख्य विपक्षी दल एमडीसी गठबंधन द्वारा अभी उम्मीदवारों का चयन किया जाना बाकी है। राष्ट्रपति चुनाव में राष्ट्रपति एमरसन मनांगाग्वा एमडीसी गठबंधन के युवा नेता नेल्सन चमिसा का मुकाबला करेंगे।

क्यूबा विमान दुर्घटना : मिला ब्लैक बॉक्स, डेटा से अहम् सुराग मिलने की उम्मीद

जिम्बाब्वे में करीब 54 लाख लोग मतदान करने के लिए पंजीकृत हैं।राष्ट्रपति एमर्सन ने कहा कि वे पूर्ण लोकतंत्र को आता हुआ देख रहे हैं। उन्होंने सत्तारुढ़ जेडएएनयू-पीएफ मुख्यालय के बाहर इकट्ठी भीड़ को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘हम अपने देश में नये और पूर्ण लोकतंत्र की शुरुआत देख रहे हैं।’’ बता दें कि जिम्बाब्वे में राबर्ट मुगाबे की लम्बे तानाशाही के बाद हाल में ही लोकतंत्र स्थापित हो सका है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned