16 साल के लड़के ने बनाई ऐसी डिवाइस, जो छुड़ाएगी चोरों के छक्के

महज 3000 रुपए में युवक ने बनाई ऐसी डिवाइस जिससे अंजान व्यक्ति नहीं कर पाएगा कार स्टार्ट..

By: Shailendra Sharma

Updated: 12 Jan 2021, 09:15 PM IST

आगर मालवा. आगर मालवा जिले के रहने वाले एक 16 साल के छात्र ने एक ऐसी डिवाइस बनाई है जो कार चोरी की घटनाओं को रोकने में खासी कारगर साबित हो सकती है। डिवाइस की खास बात ये है कि ये डिवाइस काफी सस्ती है और इसे लगाने के बाद कोई भी दूसरा व्यक्ति आपकी कार स्टार्ट हीं नहीं कर पाएगा। कार चोरी की बढ़ती वारदातों की घटनाओं के बाद छात्र को इस डिवाइस बनाने का विचार आया था और छात्र ने लॉकडाउन के दौरान इस डिवाइस को महज 3000 रुपए में बना दिया।

 

device.jpg

3000 रुपए की डिवाइस रोकेगी कार चोरी !
आगर के रहने वाले 16 साल के युवा विनय जायसवाल ने एक ऐसी डिवाइस बनाई है जो कार चोरी की घटनाओं को रोक सकती है। विनय इलेक्ट्रानिक फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट हैं जिनका कहना है कि वो रोजाना कार चोरी की घटनाओं के बारे में सुनते थे और हमेशा सोचते थे कि आखिर कार चोरी की घटनाओं को कैसे रोका जाए? उन्होंने उस पर काम करना शुरु किया और महज 3000 रुपए के खर्च में अब विनय ने एक ऐसी डिवाइस बना दी है जिसे कार में लगाने के बाद कार कोई दूसरा व्यक्ति स्टार्ट ही नहीं कर पाएगा। विनय ने बताया कि इस डिवाइस में आपका फिंगर प्रिंट होगा और जब तक आप के फिंगर प्रिंट से ये मैच नहीं खाएगा तब तक कार चाबी लगाने के बाद भी स्टार्ट नहीं होगी।

 

finger_device.jpg

मोबाइल से आया डिवाइस का आइडिया
विनय ने बताया कि हम सभी एंड्राइड फोन चलाते हैं जिसका लॉक फिंगर प्रिंट से खुलता है तो उन्होंने सोचा कि क्यों न ऐसा कोई लॉकिंग सिस्टम कार के लिए बनाया जाए जिसे फिंगर प्रिंट से खोला जा सके। लॉकडाउन के वक्त खाली समय मिलने पर इंटरनेट की मदद से विनय ने करीब एक महीने में अलग-अलग चीजों को जोड़कर इस डिवाइस को बनाया है। विनय ने बताया कि अमूमन इस तरह की फिंगर प्रिंट की डिवाइस में काफी खर्च आता है और यह केवल महंगी गाड़ियों में लगाई जाती हैं. लेकिन, मैंने इसे काफी कम खर्च में बनाया है ताकि यह आम लोगों के लिए भी आसानी से मिल सके।

 

देखें वीडियो- उपार्जन केन्द्र पहुंचने से पहले पकड़ाया व्यापारी का धान

 

पहले बाइक और फिर पिता की कार पर किया टेस्ट
विनय ने बताया कि उन्होंने डिवाइस बनाकर पहले अपनी बाइक पर इसे टेस्ट किया और जब प्रयोग सफल रहा तो पिता की कार में इसे लगाया जिसका प्रयोग भी सफल रहा। अब विनय इस डिवाइस को ओर मोडिफाइड कर इसमें जीपीएस लगाने की कोशिश कर रहे हैं, ताकि अगर कोई तार से स्पार्क करके कार स्टार्ट करने की कोशिश करेगा तो इस बात का मैसेज कार के मालिक तक पहुंच जाएगा।

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned