ममता के ड्रीम प्रोजेक्ट कोलकाता आई पर ब्रेक

पर्यटकों के आकर्षण के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की महत्वकांक्षी परियोजना कोलकाता आई धन के अभाव में फिलहाल ठंडे बस्ते में चली गई है।

By: Manoj Kumar Singh

Published: 10 Feb 2018, 08:04 PM IST


कोलकाता
पर्यटकों के आकर्षण के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की महत्वकांक्षी परियोजना कोलकाता आई फिलहाल ठंडे बस्ते में चली गई है। राज्य के वित्त विभाग ने धन के अभाव का हवाला दे कर इस पर ब्रेक लगा दिया है।
पश्चिम बंगाल की सत्ता में आने से पहले और बाद में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कोलकाता को लंदन बनाने का सपना देखा और दिखाया था। इस क्रम में उन्होंने टेम्स नदी के किनारे बने लंदन आई के तर्ज पर देश में पहली बार गंगा नदी के किनारे कोलकाता आई बनाने की घोषणा की। इसे कोलकाता के मिलेनियम पार्क में बनाने का प्रस्ताव है। छह दिसंबर 2017 को राज्य के शहरी विकास मंत्री फिरहाद हकीम ने विधानसभा में वर्ष 2018 में आकाश से समूचे कोलकाता का नजरा दिखाने वाले 135 मीटर ऊंचे कोलकाता आई के निर्माण कार्य शुरू होने की घोषणा की। शहरी विकास विभाग ने दिसंबर के अंत में निर्माण करने का टेन्डर लार्सन एण्ड टुबरो को दे दिया। उसके बाद स्वीकृति के लिए इस परियोजना को वित्त विभाग के पास भेज दिया। लेकिन वित्त विभाग ने इस परियोजना को रोक दिया। इस परियोजना के लिए धनराशि देने से इनकार करते हुए विभाग ने टेन्डर रद्द कर दिया। वित्त विभाग ने कहा कि इन दिनों इस परियोजना पर 700 करोड़ रुपए खर्च करना सरकार के लिए संभव नहीं है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री की इस महत्वकांक्षी परियोजना पर फिलहाल ब्रेक लग गया।

 

Kolkata west Bengal

कम खर्च में बनाने कोशिश
वित्त विभाग की ओर से धनराशि देने से इनकार करने के बाद राज्य सरकार ने कम खर्च में कोलकाता आई बनाने की कोशिश शुरू कर दी है। राज्य सचिवालय नवान्न ने फिर से नया टेन्डर जारी करने का फैसला किया है। सरकार नया टेन्डर जारी कर कम खर्च में इसका निर्माण करना चाहती है। शहरी विकास विभाग के एक आला अधिकारी ने बताया कि कोलकाता आई मुखमंत्री की महत्वकांक्षी योजना है। इस लिए इस योजना का काम पूरा करना ही है। लेकिन इसका बजट कम होगा।

प्रस्तावित कोलकाता आई एक नजर
* पहले यह परियोजना केएमसी को दी गई थी।

* बाद में इसे केएमडीए को सौपा दिया गया।
* पहले इसकी ऊंचाई 100 मीटर निर्धारित थी।

* फिर इसे लंदन आई के समान 135 मीटर किया गया।
* इसे 120 मीटर चौड़े क्षेत्र में तैयार किया जाना था।

* धीमी गति से यह 45 मिनट में एक चक्कर लगाएगा।
* 700 लोग बैठ कर कोलकाता का हवाई दर्शन कर सकेंगे।

* इसमें 36 एयरकंडीशन कैप्सूल लगाए जाएंगे।

Manoj Kumar Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned