समाचारों में प्रमाणिकता और तथ्य जरूरी

समाचारों में प्रमाणिकता और तथ्य जरूरी
pib

Shajapur Desk | Updated: 29 Jun 2016, 11:46:00 PM (IST) Agar Malwa, Madhya Pradesh, India

कलेक्टर डीवी सिंह ने पत्र सूचना कार्यालय इंदौर की ओर से आयोजित मीडिया कार्यशाला कही

आगर-मालवा. खबरों की सच्चाई की पुष्टि किए बिना प्रकाशित किए गए समाचारों से समाज पर दुष्प्रभाव पड़ता है। इसलिए समाचार प्रकाशित करते समय प्रमाणिकता और तथ्यों का उल्लेख करते हुए स्वस्थ पत्रकारिता की गरिमा को बनाए रखने की जिम्मेदारी पत्रकारों की है। यह बात कलेक्टर डीवी सिंह ने पत्र सूचना कार्यालय इंदौर की ओर से आयोजित मीडिया कार्यशाला-वार्तालाप आयोजन को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन एवं व्यवस्था में कमी को मैदानी स्तर पर सत्यता का गहराई से परीक्षण करने के उपरांत सकारात्मक समाचार प्रसारित करने से शासन एवं प्रशासन के संज्ञान में जनता की समस्याओं की जानकारी प्राप्त होती है। शासन-प्रशासन इसे गंभीरता से लेता है एवं प्रभावी कार्रवाई भी करता है। मीडिया आम जनता की आवाज उठाती है। मीडिया के सहयोग से विकास कार्यों में तेजी आई है। कार्यक्रम को इंदौर के पत्रकार शशींद्र जलधारी ने संबोधित करते हुए कहा कि देश-प्रदेश का विकास शासन एवं मीडिया के आपसी समन्वय से कार्य करने पर तेजी से होता है। पत्रकारिता के क्षेत्र में अनेक बाधाएं एवं चुनौतियां सामने आती है। उन चुनौतियों एवं बाधाओं का सामना करते हुए सकारात्मक पत्रकारिता करना चाहिए। उन्होंने विशेषकर ग्रामीण पत्रकारों के प्रशिक्षण की आवश्यकता पर बल देते हुए पत्रकारों को समाचार लिखते समय ध्यान देने वाली बातों का भी उल्लेख किया है।
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की दी जानकारी: कार्यक्रम के आरम्भ में पत्र सूचना कार्यालय इंदौर के सहायक निदेशक मधुकर पंवार ने मीडिया कार्यशाला में सूचना और प्रसारण मंत्रालय के विभिन्न  विभागों जैसे पत्र सूचना कार्यालय, क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय, विज्ञापन एवं दृष्य प्रचार निदशालय, भारत सरकार के समाचार पत्रों के पंजीयक कार्यालय, गीत एवं नाटक प्रभाग, आकाशवाणी, दूरदर्शन, प्रकाशन विभाग आदि के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पत्र सूचना कार्यालय की वेबसाइट सूचनाओं का खजाना है तथा इसमें केंद्र सरकार के सभी मंत्रालयों के अलावा राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, भारतीय संसद, केंद्र सरकार के उपक्रम मंडल सहित केंद्र सरकार से संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध है। इन जानकारियों का पत्रकार लेखों और समाचारों में उपयोग कर सकते हैं। उन्होंने प्रोजेक्टर के माध्यम से पीआईबी की वेबसाइट का जीवंत प्रदर्शन भी किया। कार्यशाला में जिले के अनेक पत्रकार मौजूद थे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned