सैकड़ों किसान हुए परेशान, फिर मिला आश्वासन तो हुआ तुलावटी का काम शुरू

प्रशासन ने बड़े तौल कांटे पर तुलवाई उपज

By: Lalit Saxena

Published: 24 May 2018, 08:03 AM IST

आगर-मालवा. कृषि उपज मंडी में किसान एवं हम्माल के बीच हुए विवाद का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। किसान के विरुद्ध कार्रवाई की मांग करते हुए हम्मालों ने गुरुवार को भी मंडी में कामकाज नहीं किया। सुबह ९ बजे से ही प्रशासनिक अधिकारी हम्मालों को समझाइश देते रहे लेकिन जब बात नहीं बनी तो मंडी के इलेक्ट्रॉनिक तौल कांटे पर किसानों की उपज तुलवाने का निर्णय लिया गया और व्यवस्था सुचारु की। दोपहर बाद मामले में सहमति बनी और कलेक्टर के आश्वासन के बाद हम्माल, तुलावटी काम पर लौटे।
मंगलवार शाम एक किसान एवं हम्माल के बीच विवाद हो गया था। विवाद इतना बढ़ गया था कि किसान व हम्माल के बीच मारपीट की नौबत आ गई थी। घटनाक्रम के बाद किसान तो मौके से चला गया लेकिन हम्मालों ने मंडी में कामकाज रोक दिया। मंगलवार को आए किसानों की उपज का तौल नहीं हो पाया और सैकड़ों किसान परेशान होते रहे। गुरुवार सुबह भी यही स्थिति रही।
हम्मालों ने किसान के विरुद्ध एफआइआर की मांग करते हुए कामकाज करने से मना कर दिया वहीं किसान नेताओं ने कहा यदि किसान के विरुद्ध प्रकरण दर्ज हुआ तो मंडी ही बंद कर देंगे। जब यह जानकारी प्रशासनिक अधिकारियों को मिली तो एसडीएम महेंद्र कवचे, तहसीलदार मुकेश सोनी मंडी पहुंंचे।
हम्मालों एवं किसानों के बीच मध्यस्तता कर मामले को सुलझाने का प्रयास किया गया लेकिन बात नही बनी। जब निराकरण नहीं हुआ तो अधिकारयों ने मंडी परिसर में स्थित तौल कांटों पर बगैर बारदान ट्रॉलियां तुलवाना आरंभ कर दी और किसानों की परेशानी का हल कर दिया। मंडी में भारी बल तैनात रहा।
किसानों ने लगाया मंडी गेट पर ताला
प्रशासनिक अधिकारी हम्माल संघ अध्यक्ष व तुलावटी संघ अध्यक्ष से मंडी कार्यालय में चर्चा कर रहे थे। दोनों ही पदाधिकारियों ने किसान के विरुद्ध प्रकरण दर्ज किए जाने की बात कही लेकिन इस विषय पर अधिकारी निर्णय नहीं ले सके। जब यह जानकारी किसान नेता डुंगरसिंह तथा हीरालाल यादव को मिली तो दर्जनों किसानों ने इनके साथ मिलकर मंडी गेट पर ताला लगा दिया और अधिकारियों को अवगत कराया कि यदि किसान के विरुद्ध प्रकरण दर्ज किया गया तो मंडी तो बंद करेंगे। साथ ही २६ मई को सीएम के कार्यक्रम के दौरान प्रदर्शन भी करेंगे।
कांग्रेसियों ने घेरा थानाकिसान कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष हीरालाल यादव को पुलिस द्वारा थाने पर बैठ लेने के कारण आक्रोशित कांग्रेसियों ने कोतवाली का घेराव कर दिया और एक घंटे तक बैठे रहे। कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर पक्षपात पूर्ण कार्रवाई का आरोप लगाया। इस अवसर पर गुड्डू लाल, विपिन वानखेड़े, राजकुमार गौरे, किसान कांग्रेस अध्यक्ष मानसिंह गुर्जर आदि मौजूद थे। करीब ९ बजे तक पुलिस व कार्यकर्ताओं के बीच बहस चली। इधर यादव के खिलाफ न तो प्रकरण दर्ज किया गया न ही उन्हें छोड़ा गया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं का कहना था कि किसानों के साथा भाकिसं के नेता डुंगरसिंह सिसौदिया भी मौजूद थे लेकिन उनको क्यों नहीं बैठाया गया।
बातचीत का दौर दिनभर चलता रहा। मामले पर कलेक्टर अजय गुप्ता निगरानी करते रहे। जब कोई हल नहीं निकला तो कलेक्टर ने उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया तब हम्माल कामकाज करने को राजी हुए और दोपहर बाद मंडी में कामकाज सुचारु रूप से शुरू हो गया। सुबह से ही कृषि उपज मंडी में दोनों पक्षों को समझाने का प्रयास किया जा रहा था। कलेक्टर के निर्देश पर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिए जाने के बाद दोपहर २ बजे से हम्माल तुलावटी काम पर लौट आए।
मुकेश सोनी, तहसीलदार आगर

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned