यहां बस के इंतजार के लिए करना पड़ता है इस चीज से सामना

नगर से राजस्थान को जोडऩे वाले अंतरप्रांतीय मार्ग सुसनेर से पिडावा तथा डग की ओर निकलने वाले मार्गों

By: Lalit Saxena

Published: 16 May 2018, 07:00 AM IST

सुसनेर. नगर से राजस्थान को जोडऩे वाले अंतरप्रांतीय मार्ग सुसनेर से पिडावा तथा डग की ओर निकलने वाले मार्गों पर यात्रियों को कभी खुले आसमान के नीचे खड़े रहकर तो कभी इधर-उधर होटलों व दुकानों में बैठकर बसों का इंतजार करना पड़ता है। यहां से सफर करने वाले यात्री पीने के पानी तक को तरसते रहते हैं। प्यास लग जाए तो पानी के लिए भी होटलों का रुख करना पड़ता है।
अंतरप्रांतीय मार्ग पर बसें भी गिनती की ही चलती हैं। यात्रियों को यहां से यात्रा तय करने के लिए बस का लंबे समय तक इंतजार करना पड़ता है। इस क्षेत्र में राजस्थान सीमा से जुड़े 40 से भी अधिक ग्राम हैं। यहां से ग्रामीण पिडावा दरवाजा क्षेत्र में खड़े रहकर बस का इंतजार करते हैं। यहा यात्री प्रतीक्षालय नहीं होने से ग्रामीणों को बेहद परेशानी होती है। यहां से डग, पिडावा, पंचदेहरिया, ननोरा, मालनवासा, मैना से होते हुए बसें राजस्थान के पिडावा व डग तक जाती हैं। ऐसे में बसों के अभाव में इन ग्रामीणों को जीप या फिर अन्य साधनों का सहारा लेकर सुसनेर से गांव और गांव से सुसनेर आना जाना पडता है।
अंतरप्रांतीय मार्ग के नगरीय सीमा में होने के बाद भी नगर परिषद ने यहा पर यात्रियों के लिए सुविधा जुटाने के बारे में कभी सोचा तक नहीं। इन सीमावर्ती ग्रामों से बड़ी संख्या में बच्चे पढऩे के लिए नगर में आते हैं। उनके लिए भी खड़े रहने तक की व्यवस्था नहीं है। नगर परिषद इस क्षेत्र में यात्रियों के लिए सुविधा जुटाकर प्राइवेट बस स्टैंड कायम कर सकती है।
चलती बसों में चढ़ जाते हैं
पिडावा दरवाजा क्षेत्र से राजस्थान की ओर बसों का संचालन कम होने के कारण ग्रामों की ओर जो बसें जाती हैं लोग उसी में ही सफर करते हैं। बसों में संख्या अधिक हो जाती है तो वाहन चालकों के द्वारा यहां वाहन नहीं रोके जाते हैं, ऐसे में कई बार ग्रामीण चलती बसों व अन्य वाहनों में लटकर सफर करते हैं तो कभी चलते हुए ही उसमें बैठ जाते हैं। इससे कभी-भी उनके साथ हादसा भी हो सकता हैं।

Show More
Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned