जानें आखिर किसानों ने सरकार को क्यों नहीं समर्थन

समर्थन मूल्य के तहत् १५ मई तक जिले के १६ उपार्जन केन्द्रों पर ७ लाख २६ हजार १२७ क्विंटल गेहूॅं १० हजार २२१ किसानों से खरीदा।

By: Lalit Saxena

Published: 16 May 2018, 06:00 AM IST

आगर-मालवा. समर्थन मूल्य के तहत् १५ मार्च से १५ मई तक जिले के १६ उपार्जन केन्द्रों पर ७ लाख २६ हजार १२७ क्विंटल गेहूॅं १० हजार २२१ किसानों से खरीदा गया। दो माह तक खरीदे गए इस गेहूं में से ९१.६ प्रतिशत गेहूं का परिवहन हो पाया है। करीब ६५ हजार क्विंटल गेहूं जिले के विभिन्न तौल केन्द्रों पर खुले में पड़ा हुआ है।
समर्थन मूल्य के तहत जिले में १६ उपार्जन केंद्र बनाए गए थे। विपणन सहकारी संस्था आगर तौल केन्द्र पर पंजीकृत १५४० किसानों में से ८५६ किसानों द्वारा अपना ५३ हजार २४६ क्विंटल गेहूं समर्थन मूल्य के तहत् बेचा गया। इसी प्रकार आगर प्राथमिक सहकारी संस्था के तौल केन्द्र पर १ हजार ६४ किसानों ने ६८ हजार २७३ क्विंटल गेहूं बेचा। यहां परिवहन की स्थिति कुछ खास नहीं रही। प्राथमिक कृषि सहकारी संस्था द्वारा खरीदे गए गेहूं का तो लगभग परिवहन हो गया लेकिन विपणन संस्था द्वारा खरीदे गए गेहूं में से महज ४४ हजार ६५५ क्विंटल गेहूं का ही परिवहन हो पाया। करीब ८ हजार ५०० क्विंटल गेहूं आज भी मंडी मेें खुले में रखा हुआ है।
इसी प्रकार प्राथमिक सहकारी संस्था कानड़ ने ६९ हजार २१३ क्विंटल, विपणन सहकारी संस्था बड़ौद ने ९८ हजार २४५ क्विंटल, प्राथमिक सहकारी संस्था सोयत ने ३४ हजार ५५ क्विंटल, विपणन सहकारी संस्था सुसनेर ने ४४ हजार ६६१, विपणन सहकारी संस्था नलखेड़ा ने ४५ हजार २६९, प्राथमिक सहकारी संस्था सुसनेर ने ३२ हजार ५५१, प्राथमिक सहकारी संस्था तनोडिय़ा ने ६३ हजार १९९, प्राथमिक सहकारी संस्था मदकोटा ने ७२ हजार ५८४, प्राथमिक सहकारी संस्था चांदनगांव ने ४८ हजार ६४०, प्राथमिक सहकारी संस्था नलखेड़ा ने १० हजार ८३१, प्राथमिक सहकारी संस्था बड़ागांव ने ६ हजार ९५०, प्राथमिक कृषि सहकारी समिति उमरपुर ने १४ हजार ४६१, प्राथमिक कृषि सहकारी समिति बीजानगर ने ३८ हजार ३५०, प्राथमिक कृषि सहकारी समिति सेमलखेड़ी सुईगांव ने २५ हजार ५९४ क्विंटल गेहूं खरीदा है। सर्वाधिक गेहूॅ विपणन सहकारी संस्था बड़ोद द्वारा खरीदा गया।
९३.१६ करोड़ से अधिक का भुगतान
समर्थन मूल्य के तहत् गेहूं बेचने वाले जिले के १० हजार २२१ किसानों को अभी तक ९३ करोड़ १६ लाख ९१ हजार ६५२ रूपए का भुगतान किया जा चुका है।
खराब मौसम ने बढ़ाई चिंता
समर्थन मूल्य के तहत् खरीदी बंद होते ही मंगलवार शाम ६ बजे बाद अचानक मौसम में बदलाव आया और तेज अंधड़ के साथ बूंदा-बांदी हुई। मौसम में आए इस बदलाव से खरीदी केन्द्रो पर मौजूद कर्मचारियों में खासी खलबली मच गई। जिले के १६ उपार्जन केन्द्रों में से अधिकांश केन्द्रों पर हजारों क्विंटल गेहूं आज भी खुले में पड़ा हुआ है। आनन-फानन में गेहूं पर बरसाती बिछाई गई और पानी से बचाने के प्रबंध किए गए। कुल खरीदे गए ७ लाख २६ हजार १२७ क्विंटल गेहूं में से ६ लाख ६१ हजार २२५ क्विंटल गेहूं का ही परिवहन मंगलवार तक हो पाया था।
१५ मार्च से १५ मई तक जिले के १६ उपार्जन केन्द्रों पर करीब ७ लाख २६ हजार १२७ क्विंटल गेहूं खरीदा गया है जिसमें से ९१.६ प्रतिशत गेहूं का परिवहन हो चुका है। बचे हुए गेहूं का परिवहन भी जारी है।
केएस पेंड्रो, जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी

BJP Congress
Show More
Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned