सूरज की तपिश के बीच शीतल छाया की दरकार

धीरे-धीरे अब गर्मी ने तेवर दिखाना आरंभ कर दिए हैं। सुबह १० बजे के बाद से ही गर्मी असर दिखाना शुरू कर देती है।

By: Lalit Saxena

Published: 12 Mar 2018, 07:15 AM IST

आगर-मालवा. धीरे-धीरे अब गर्मी ने तेवर दिखाना आरंभ कर दिए हैं। सुबह १० बजे के बाद से ही गर्मी असर दिखाना शुरू कर देती है। ऐसे मे हर व्यक्ति अपने बचाव के लिए छांव की तलाश मे रहता है लेकिन जब छांव ही नहीं मिले तो निश्चित ही संबंधित को परेशानी का सामना करना पड़ता है। कुछ इसी प्रकार के हालात छावनी नाके पर विभिन्न गंतव्यों की ओर जाने वाले यात्रियों के साथ निर्मित हो रहे हैं। छावनी नाके पर कोई प्रतीक्षालय न होने के चलते यात्रियों सहित अन्य लोगों को धूप के कारण काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
छावनी नाका चौराहे से विभिन्न गंतव्यों की ओर जाने के लिए लोग यात्री बसों का इंतजार करते हैं। लोगो को बसों के इंतजार मे छावनी नाके पर काफी समय तक इंतजार भी करना पड़ता है। ऐसे में ये लोग अपने आप को धूप से बचाने के लिए छावनी नाके पर स्थित यात्री प्रतीक्षालय में बैठ जाया करते थे लेकिन उसको नपा द्वारा सुविधाघर बनाने के लिए हटा दिया गया था। प्रतिक्षालय तोडऩे के बाद सर्दी का समय तो लोगो ने जैसे-तैसे निकाल लिया लेकिन अब गर्मी काफी तेज होने लग गई है। प्रतीक्षालय टूटने के बाद लोग बसों के इंतजार मे हरे-भरे पेड़ों को अपना सहारा बना रहे हैं। सुसनेर की ओर जाने वाले यात्री तो पेड़ की छांव मे बैठकर बसों का इंतजार कर लेते हैं लेकिर सारंगपुर की ओर जाने वाले यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस मार्ग की ओर जाने वाले यात्री धूप मे ही खड़े होकर बसों का इंतजार करते हैं।
नपा ने नहीं बनाया दूसरा प्रतीक्षालय
नगर पालिका द्वारा जो यात्री प्रतिक्षालय तोड़ा गया उसके बदले किसी दूसरे स्थान पर यात्रियों की सुविधा के लिए दूसरा प्रतीक्षालय तक नहीं बनाया गया है। शहर से अच्छी हालत तो दूसरे ग्रामीण इलाकों की दिखाई देती हैं। कई ग्रामीण इलाकों में यात्रियों के लिए बसों का इंतजार करने के लिए प्रतीक्षालय बनाए गए हैं। यात्रियों को धूप से बचाने के लिए छावनी नाका चौराहे पर प्रतीक्षालय बनाने की सख्त दरकार है।
पुलिसकर्मी भी होते हैं परेशान
राजमार्ग होने के कारण छावनी नाका चौराहा काफी व्यस्त रहता है। यहां लोगो की सतत् आवाजाही लगी रहती है। इसके कारण यहां पर दो पुलिसकर्मियों की तैनाती भी की गई है। छावनी नाका चौराहे की व्यवस्था बनाए रखने वाले पुलिसकर्मियों के लिए भी यहां कोई सुविधा नहीं है। प्रतीक्षालय के अभाव में पुलिसकर्मियों को भी सुबह से लेकर शाम तक तपिश का सामना करना पड़ता है।
आम लोगों की सहूलियत को दृष्टिगत रखते हुए छावनी नाके पर जहां पुराना प्रतीक्षालय था, उसी स्थान के समीप प्रतीक्षालय का निर्माण किया जाएगा। प्रक्रिया प्रचलन में है। शीघ्र ही पूर्ण होगी।
शकुंतला जायसवाल, नपाध्यक्ष

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned