इस धाम पर जाने के लिए भक्तों को देनी पड़ती है कठिन परीक्षा

बैजनाथ धाम में अव्यवस्था को लेकर जवाबदार बेखबर

By: Lalit Saxena

Published: 10 Aug 2018, 07:04 AM IST

आगर-मालवा. क्षेत्र के अतिप्रसिद्ध बाबा बैजनाथ महादेव मंदिर में सावन माह के दौरान प्रतिदिन विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित हो रहे है। सावन के अंतिम सोमवार को परम्परानुसार शाही सवारी निकाली जाएगी। इन सभी आयोजनों को लेकर जवाबदारों का कोई ध्यान नहीं है। सड़क किनारे झूलते बिजली के तार खुलेआम हादसों को आमंत्रित करते हुए दिखाई देते है।
छावनी नाके से लेकर बैजनाथ मंदिर पहुंच मार्ग तक इंदौर कोटा राजमार्ग की साईड पटरियां भी खस्ताहाल हो चुकी है जो कि आए दिन बाईक सवारों के लिए हादसे का सबब बन रही है। वहीं मंदिर परिसर में भी इस वर्षहालात कुछ ठीक दिखाईनही दे रहे है। निर्माणाधीन कार्य न तो पूर्णहुए हैऔर नही यहां आने वाले दर्शनार्थियों की सुविधा के अनुरूप व्यवस्थाएं जुटाई जा रही है।
हादसों का बना रहता है अंदेशा
मंदिर में भीड़ अधिक बढऩे की स्थिति में पूरे चबूतरे पर कतार लग जाती है और कतार कभी-कभी सड़क तक भी आ जाती है। सोमवार के दिन तो हजारो की संख्या में दर्शनार्थी महादेव के दर्शन करने आते है। नवनिर्मित चबूतरे पर किसी भी प्रकार के सुरक्षा के इंतजाम न किए जाने से पल-पल हादसो का अंदेशा बना रहता है। चबूतरे के ठीक पीछे बाणगंगा नदी स्थित है जिसके कारण छोटी सी असावधानी भी बड़ा रूप ले सकती है।इस ओर जवाबदारों का कोई ध्यान नही है। न तो यहां रैलिंग लगाईगईऔर न ही किसी प्रकार के सांकेतिक चिन्ह लगाए गए है।
२० अगस्त को निकलेगी शाही सवारी
प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी बाबा बैजनाथ महादेव सावन के अंतिम सोमवार २० अगस्त को नगर भ्रमण पर निकलेंगे। बाबा बैजनाथ की इस सवारी में लाखो लोग सम्मिलित होते है और इस आयोजन को सफल बनाने के लिए करीब १ माह पूर्व तैयारियां आरंभ हो जाती है लेकिन इस वर्ष ऐसा कुछ दिखाईनही दे रहा है। छावनी नाके से लेकर बैजनाथ मंदिर प्रवेश द्वार तक करीब ४ किमी के राजमार्ग मार्ग के हिस्से में सड़क पर साईड शोल्डर भी जवाबदार नही भरवा पाए है। सड़क की साईड पटरियां बुरी तरह धंस चुकी है। बिजली के लटकते तार खुलेआम हादसों को आमंत्रित करते हुए दिखाईदे रहे है।
सावन महोत्सव के अंतर्गत व्यवस्थागत तैयारियां चल रही है। शाही सवारी को लेकर भी पर्याप्त व्यवस्थाएं जुटाई जा रही है । चबूतरे पर भी सुरक्षा इंतजाम किए जाएंगे। रास्ते में झूल रहे बिजली के तारों को हटाने के लिए विवकं को कहा जाएगा।
मुकेश सोनी, तहसीलदार आगर

Lalit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned