सरकारी नियम ताक पर, हम तो बैठेंगे छत पर

जिला बनने के बाद उम्मीद की जा रही थी कि शहर की बेतरतीब यातायात व्यवस्था तथा नियम ताक पर रखकर वाहन चलाने वालों पर अंकुश लगेगा लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है।

By: Lalit Saxena

Published: 30 Nov 2016, 11:15 PM IST

आगर-मालवा. जिला बनने के बाद उम्मीद की जा रही थी कि शहर की बेतरतीब यातायात व्यवस्था तथा नियम ताक पर रखकर वाहन चलाने वालों पर अंकुश लगेगा लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है। आंतरिक मार्गों पर शायद ही कोई अभियान चलाते हुए देखा गया होगा जिस कारण शहर की यातायात व्यवस्था बदहाल है। 

आधा दर्जन से अधिक ट्रैफिक पुलिस
आधा दर्जन से अधिक ट्रैफिक पुलिसकर्मी होने के बावजूद व्यवस्था में सुधार नहीं है। लंबे समय से यातायात पुलिस को शहर के आंतरिक मार्गों पर शायद ही कोई अभियान चलाते हुए देखा गया होगा जिस कारण शहर की यातायात व्यवस्था बदहाल है। ग्रामीण क्षेत्र की ओर जाने वाले मैजिक वाहन तथा बस खुलेआम नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए दिखाई देती हैं।




मनमर्जी से बनाया पार्किंग स्थल
गंगापुर, नरवल, कसाईदेहरिया, पांचारुंडी, बापचा की ओर से आने वाले मैजिक वाहन, टेम्पो तथा अन्य छोटे-मोटे वाहनों के लिए मनमर्जी से छावनी नाके पर स्थित अंबेडकर कॉम्प्लेक्स को पार्र्किंग बना दिया गया है। अन्य चौराहों की स्थिति भी दयनीय है। शहरी क्षेत्र में गलियों के सामने खड़े रहने वाले वाहनों से लोग परेशान हैं। शहरी क्षेत्र जमूचौतरे पर ट्रैक्टर चालक मनमर्जी से ईमली गली के मुहाने पर वाहन खड़ा कर देते हैं। इससे रास्ता जाम हो जाता है। ऐसे में यदि कोई व्यक्ति इस गली से गुजरता है तो अपना रास्ता ही बदलना पड़ता है।
Lalit Saxena
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned