ऐसा क्या हुआ कि सभी काट गए अध्यक्ष से कन्नी

ऐसा क्या हुआ कि सभी काट गए अध्यक्ष से कन्नी

Lalit Saxena | Publish: Mar, 15 2018 07:00:00 AM (IST) Agar, Madhya Pradesh, India

१२ मार्च को नगरपालिका परिषद की बैठक को कोरम के अभाव में स्थगित कर १४ मार्च दोपहर २ बजे बैठक का आयोजन किया गया था

आगर-मालवा. १२ मार्च को नगरपालिका परिषद की बैठक को कोरम के अभाव में स्थगित कर १४ मार्च दोपहर २ बजे बैठक का आयोजन किया गया था, लेकिन बुधवार को भी बैठक नहीं हुई। नपाध्यक्ष शंकुतला जायसवाल निर्धारित समय पर नगरपालिका आ गई थी लेकिन पार्षद बैठक में शामिल होने के लिए नहीं आए। २ घंटे इंतजार करने के बाद बैठक को वापस स्थगित कर दिया गया। नगरपालिका में जारी घटनाक्रम से ऊहापोह की स्थिति बन चुकी है।
बुधवार को नामांतरण प्रकरणों सहित करीब २७ विषयों पर परिषद की बैठक में निर्णय होना थे लेकिन बैठक न होने के कारण सभी विषय धरे के धरे रह गए। कुछ पार्षद निर्धारित समय पर कार्यालय के आसपास दिखाई जरूर दिए लेकिन बैठक में नही पहुंचे। महिला पार्षदों ने तो नगरपालिका आना भी मुनासिब नहीं समझा। निर्वाचित प्रतिनिधियों के मध्य आपस में चल रही खींचतान बुधवार को सतह पर दिखाई दी। कुछ पार्षदों ने दबे स्वर में बताया कि महत्व न दिए जाने के कारण इस प्रकार की स्थिति निर्मित हो रही है। पार्षदों के कहने के बावजूद उनके वार्ड में ठीक से कार्य नहीं हो पा रहे हैं। उनका कार्यकाल निरंतर बीतता जा रहा है और वो मतदाताओं की उम्मीदों के अनुरूप कार्य नहीं कर पा रहे। इसलिए सभी पार्षदों ने एकमत होकर बैठक का बहिष्कार कर दिया।
नगरपालिका में २३ निर्वाचित पार्षद हैं तो ४ मनोनीत एल्डरमैन हैं लेकिन बुधवार को इनमें से एक-दो ही अध्यक्ष के समीप पहुंचे। अधिकांश पार्षद नगरपालिका ही नहीं आए। दोनों दलों के पार्षदों के साथ निर्दलीय पार्षदों ने भी बैठक से किनारा कर लिया।
चल रही हैं खींचतान
पार्षदों, अध्यक्ष, सीएमओ व कर्मचारियों के बीच नगरपालिका में खींचतान लंबे समय से चली आ रही है। बीच में अध्यक्ष एवं सीएमओ की आपसी खींचतान के चलते शहर का विकास कार्य अवरुद्ध हुआ था। अध्यक्ष-सीएमओ में सुलह हो जाने के बाद अब पार्षदों की नाराजगी बढ़ती जा रही है। मार्च में निकाय का बजट पेश होना है और उसी बजट के आधार पर पूरे वर्ष विकास कार्य शहर में होना हैं। वित्ती वर्ष के समापन पर इस प्रकार की गतिविधि होने से विकास कार्यों पर इसका विपरीत प्रभाव दिखाई देगा।
बुधवार को आयोजित की परिषद की बैठक में नामांतरण प्रकरणों सहित २७ महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा होनी थी लेकिन बगैर किसी सूचना के अकारण ही पार्षद बैठक से अनुपस्थित रहे। फिलहाल बैठक स्थगित की गई है। जल्द ही बैठक का एजेंडा जारी किया जाएगा।
शकुंतला जायसवाल, नपाध्यक्ष आगर

Ad Block is Banned