scriptWomen took over the financial responsibility, got praise till the capi | महिलाओं ने संभाली वित्तीय जिम्मेदारी, राजधानी तक मिली शाबासी | Patrika News

महिलाओं ने संभाली वित्तीय जिम्मेदारी, राजधानी तक मिली शाबासी

300 किसान शेयर होल्डर, 50 लाख का सालाना टर्न-ओवर

अगार मालवा

Updated: April 14, 2022 09:38:09 am

आगर-मालवा. ग्रामीण क्षेत्र से जुड़ी महिलाओं ने वित्तीय प्रबंधन के मामले में बगैर किसी डिग्री-डिप्लोमा के ऐसा कार्य कर दिखाया है, जिसकी सराहना राजधानी भोपाल तक हो रही है। आगर जिले के छोटे गांव चाचाखेड़ी में दर्जनभर महिलाओं ने कुछ वर्ष पूर्व समूह बनाकर परिवार की आर्थिक हालत ठीक करने के उद्देश्य के साथ कृषि गतिविधि आरंभ की थी। अब ये समूह कंपनी के रूप में परिवर्तित हो गया है। महिलाओं की मेहनत रंग लाई व कंपनी का वार्षिक टर्न-ओवर 50 लाख तक जा पहुंचा तथा 300 किसान शेयर होल्डर है। अब महिलाओं ने खड़ी की इस कंपनी के माध्यम से क्षेत्र के अन्य गांवो की महिलाओं को भी रोजगार के अवसर मिल रहे हैं। वहीं, जिले की पहचान बने संतरे की ग्रेडिंग हो रही है।

patrika
patrika
patrika
IMAGE CREDIT: patrika

देखते ही देखते इनके साथ महिलाएं जुडऩे लगी
ग्राम चाचाखेड़ी निवासी साधना पति संतोष शर्मा ने मप्र ग्रामीण आजीविका मिशन की प्रेरणा से वर्ष 2010 में एक समूह तैयार किया गया और खेती किसानी पर आधारित आर्थिक गतिविधियां की जाने लगी। साधना शर्मा ने अपने समूह में गांव की महिलाओ को प्रेरित कर शामिल किया और कुआं निर्माण, सिंचाई कार्य एवं संतरे की खेती के साथ-साथ उन्नत खेती की ओर अग्रसर होने लगे। देखते ही देखते इनके साथ महिलाएं जुडऩे लगी और कारवां आगे बढ़ता गया। समूह के माध्यम से संतरे की अच्छी पैदावार तो होने लगी लेकिन उचित दाम न मिलने से उत्साह कम था, इसी बीच साधना शर्मा ने हौसले के साथ निर्णय लिया कि संतरे के उचित दाम के लिए ऐसे प्रयास किए जाएं जिससे सभी को मुनाफा होने लगे। इसको समूह की अन्य महिलाओ के समक्ष रखा गया और परामर्श के लिए मप्र ग्रामीण आजीविका मिशन के अधिकारियो से बात की तो कंपनी बनाने का सुझाव मिला।

patrika
IMAGE CREDIT: patrika

विषम हालात मेंं समूह को कंपनी मुकाम तक पहुंचाया
सुझाव अनुसार, कंपनी बनाने के लिए 300 किसानो की आवश्यकता थी और सभी किसानो को कंपनी का शेयर होल्डर बनाना था। प्रत्येक किसान से शेयर की राशि भी एकत्रित करना थी पर महिलाओं ने हिम्मत नहीं हारी। वित्तीय प्रबंधन के ज्ञान के बगैर ही महिलाएं मैदान में उतर गई। संतरे की पैदावार करने वाले किसानो से बात की और उन्हे विश्वास दिलाया कि आपको फसल का उचित दाम मिलेगा और मुनाफा भी होगा। किसानो को बात समझ में आने लगी और देखते ही देखते यह समूह कंपनी के रूप में परिवर्तित हो गया जिसका नाम आजीविका ऑरेंज प्रोड्यूसर कंपनी रखा गया। कंपनी के बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर की बैठक हुई और गतिविधियों का संचालन आरंभ कर दिया। कंपनी के पंजीयन एवं अन्य शासकीय प्रक्रिया को आजीविका मिशन के अधिकारियो ने पूर्ण कराया।

patrika
IMAGE CREDIT: patrika

संतरे की ग्रेडिंग यूनिट बनाई, कई महिलाओं ने पाया रोजगार
आगर जिले में संतरे की पैदावार अच्छी होती है और कंपनी ने संतरे को ही अपना व्यापार का साधन बनाया। जब कंपनी बनी तो भारत सरकार ने संचालन के लिए 9 लाख रूपए का अनुदान जारी किया गया। महिलाओ ने इसका उपयोग संतरा खरीदने के लिए किया और खरीदे गए संतरे की ग्रेडिंग कर एक बड़ी कंपनी से अनुबंध कर लिया। शुरूआती वर्ष में 5 लाख 85 हजार रूपए का कारोबार किया जिसमें 30 हजार रूपए का मुनाफा हुआ। दूसरे वित्तीय वर्ष में कंपनी का टर्न-ओवर 50 लाख पर जा पहुंचा। किसानो के संतरे की ग्रेडिंग के लिए 4 हजार स्क्वेयर फिट में कंपनी के बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर सुनिता राठौड़ के नाम से 17 लाख रूपए बैंक से स्वीकृत करा कर यूनिट की स्थापना की गई।

patrika
IMAGE CREDIT: patrika

इस तरह महिलाओं का हौसला, सीएम ने की सराहना
- महिलाओं की इस कंपनी के माध्यम से क्षेत्र के अन्य गांवो की महिलाओ को खेतो से संतरा तोडऩा , एकत्रित करना और ग्रेडिंग करने के कार्य में रोजगार दिया गया।
- 8 एवं 9 अप्रेल को भोपाल में आयोजित स्वयं सेवी संस्थाओ के सम्मेलन में इस कंपनी के बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर साधना शर्मा एवं ममता विश्वकर्मा को आमंत्रित किया।
- मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कार्यक्रम के दौरान इनकी सराहना की, महिलाओं ने कंपनी के गठन व अन्य गतिविधि की जानकारी साझा कर ग्रेडिंग यूनिट प्रोसेस बताई।

दो वर्ष पूर्व बनी कंपनी प्रमुख आधार बनी
करीब 2 वर्ष पूर्व ग्राम चाचाखेड़ी की महिलाओ के एक समूह ने कंपनी बनाने की गतिविधि आरंभ की थी। शुरूआती 2 वर्ष में ही महिलाओ की यह कंपनी आर्थिक प्रगति की ओर अग्रसर हो चुकी है, किसी वित्तीय प्रबंधन के ज्ञान के बगैर महिलाओं के उम्दा वित्तीय प्रबंधन से कंपनी का वार्षिक टर्न-ओवर अब 50 लाख रूपए हो चुका है।
- हेमंत रामावत, जिला प्रबंधक मप्र ग्रामीण आजीविका मिशन

बचत से खुलते गए रास्ते
हम एक साधारण परिवार से आते है हमने गरीबी को बेहद करीब से देखा है, गरीबी दूर करने के लिए बहुत संघर्ष किया। परम्परागत खेती पर ही निर्भर रहते थे, इसी बीच महिलाओं का समूह बनाया और छोटी-छोटी गतिविधि कर बचत आरंभ की। महिलाओं का साथ मिला तो रास्ते खुलते गए और हमने एक कंपनी बना ली, आज हमारी कंपनी में 300 किसान शेयर होल्डर हैं। - साधना शर्मा, बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर आजीविका ऑरेंज प्रोड्यूसर कंपनी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

विश्व प्रसिद्ध धार्मिक स्थल हेमकुंड साहिब और लक्ष्मण मंदिर के खुले कपाट, दो साल बाद लौटी रौनकPetrol-Diesel Prices Today: केंद्र के बाद राज्यों ने घटाए पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें कितनी हैं आपके शहर में कीमतेंQuad Summit 2022: प्रधानमंत्री मोदी का जापान दौरा, क्वाड शिखर सम्मेलन में बाइडेन से अहम मुलाकात, जानें और किन मुद्दों पर होगी बातDelhi Suicide Case: 'कमरे में घुसने के बाद लाइटर न जलाएं' दीवार पर लिखकर मां-बेटियों ने दी जान, एक साल पहले कोरोना से हुई थी CA पति की मौतभाजपा नेता को किया गिरफ्तार, आशियाना ध्वस्त करने पहुंचा था बुलडोजरसाप्ताहिक समीक्षा: सोने-चांदी में तेजी, 2290 रुपए सस्ती हुई चांदी, जानें गाेल्ड की कीमतWeather Update: कई राज्यों में आंधी के साथ बूंदाबांदी, अगले 5 दिनों तक बारिश का अलर्ट'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.