आगरा: पांच करोड़ की फिरौती मांगने वाला एक लाख का इनामी बदन सिंह पुलिस मुठभेड़ में ढेर

यूपी में आतंक का एक और अध्याय हमेशा के लिए बंद हो गया। एक लाख के इनामी और डॉक्टर का अपहरण कर पांच करोड़ की फिरौती मांगने वाले बदन सिंह को पुलिस ने मुठभेड़ में ढेर कर दिया है।

By: shivmani tyagi

Published: 22 Jul 2021, 10:33 AM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
आगरा. डॉक्टर उमाकांत गुप्ता के चर्चित अपहरण कांड में शामिल एक लाख के इनामी बदमाश बदन सिंह ( Badan Singh ) को पुलिस ने मुठभेड़ ( police encounter ) में मार गिराया है। इसके एक साथी को भी गोली लगी है जिसका अस्पताल में उपचार चल रहा है।

जगनेर के कछपुरा क्षेत्र में हुई मुठभेड़
पुलिस को सूचना मिली थी कि डॉक्टर के अपहरण कांड का मास्टरमाइंड बदमाश बदन सिंह बीहड़ क्षेत्र में छिपा है। मौसम खराब होने की वजह से पुलिस बीहड़ क्षेत्र में नहीं पहुंच पा रही थी। ऐसे में पुलिस टीम ने कछपुरा क्षेत्र डेरा डाल रखा था। यहां पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हो गई। काफी देर तक मुठभेड़ हुई जिसमें दो बदमाश गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों को अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल में उपचार के दौरान बदन सिंह तौमर ने दम तोड़ दिया। बताया जा रहा है कि मुठभेड़ में एसएसपी आगरा और एसपी वेस्ट समेत अन्य अधिकारियों को गोली लगी लेकिन बुलेट प्रूफ जैकेट ने इन्हें बचा लिया। पुलिस टीम के दो अन्य सदस्य मुठभेड़ में घायल हुए हैं।


ये है पूरा मामला
दरअसल ट्रांसयमुना कॉलोनी में रहने वाले डॉक्टर उमाकांत गुप्ता का नाटकीय ढंग से अपहरण कर लिया गया था। पुलिस ने अपहरण के करीब 36 घंटे बाद राजस्थान से डॉक्टर काे बरामद कर लिया था। पूछताछ में पता चला था कि अपहरण की योजना धौलपुर के बदमाश बदन सिंह ने बनाई थी। योजना के तहत बदन सिंह की साथी युवती संध्या उर्फ मंगला ने अंजलि बनकर डॉक्टर से बात की और नौकरी मांगने के बहाने उनसे मिली। इसके बाद डॉक्टर को अगवा कर अपने साथ ले गई थी। डॉक्टर के अपहरण की घटना से हफकम्प मच गया था। फिरौती की मांग हुई तो पुलिस सतर्क हो गई थी। इस तरह पुलिस ने बदमाशों से डॉक्टर को महज 36 घंटे बाद ही मुक्त करा लिया था। इसके बाद से ही पुलिस बदन सिंह की तलाश में जुटी हुई थी। पुलिस पड़ताल यह बात भी सामने आई कि बदन सिंह दस्यु केशव गुर्जर के लिए काम करता था। बदन सिंह की गिरफ्तारी के लिए भी टीमें लगी हुई थी और इस पर एडीजी जोन राजीव कृष्ण ने एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया था।

फिल्मी थी पूरी कहानी

बदमाशों से चंगुल से लौटने के बाद डॉक्टर गुप्ता ने बताया था कि अपहरणकर्ता उसे बीहड़ में ले गए थे। डॉक्टर ने पूछताछ में बताया था कि बदमाशों ने उनकी आंखों पर पट्टी बांध दी थी। बाइक पर बैठाकर कुछ दूर जाने के बाद पैदल ले गए थे। काफी दूर पैदल चलने के बाद उसे बदमाश बीहड़ के अंदर ले आए थे। डॉक्टर के अनुसार बीहड़ के जंगलों में काफी गर्मी थी और कुछ ही देर में उनका हाल वहां खराब हाेने लगा था।

यह भी पढ़ें: सीएम योगी की सख्त चेतावनी, यूपी में जिसे प्रॉपर्टी जब्त करवानी हो, वह करे गलत काम करे

यह भी पढ़ें: एनआईए जांच में घिरे मेरठ के युवक की संदिग्ध हालातों में मौत, घर पर ही जहर खाकर जान देने की आशंका

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned