सावधान! कहीं आपके बीच तो नहीं कोई सनकी जो ले ले जान

सावधान! कहीं आपके बीच तो नहीं कोई सनकी जो ले ले जान
सावधान! कहीं आपके बीच तो नहीं कोई सनकी जो ले ले जान

Amit Sharma | Updated: 14 Sep 2019, 05:20:59 PM (IST) Agra, Agra, Uttar Pradesh, India

-थाना सैंया के रजपुरा में शातिर ने सनक में ली मासूम की जान
-पुलिस ने बताया सनकी है हत्यारा अनिल
-जरा सी चूक में चली गई धनराज की जान
-कहीं आपके आस-पास तो नहीं कोई सनकी
-व्यवहार और आचरण को परख कर ही काम पर रखें कर्मचारी

आगरा। थाना सैंया के गांव रजपुरा में हुए सनसनीखेज (Sensational) धनराज हत्याकांड (Massacre) का हैरान कर देने वाला कारण सामने आया है। घर में पशुओं की देख-रेख के लिए रखे गये नौकर अनिल ने महज मोबाइल टूटने पर मालिक के बेटे की अपहरण ( Kidnapping) के बाद हत्या कर दी। पुलिस को पूछताछ में शातिर ने अपने जुर्म का इकबाल किया है। थाना सैंया पुलिस का मानना है कि अनिल एक सनकी व्यक्ति है। ऐसे लोग जरा-सी बात पर किसी के साथ कुछ भी कर सकते हैं। यह बेहद झकझोर देने वाली है, इससे लोगों को सबक लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें- अलीगढ़ में बोले सीएम योगी- गाय कटने नहीं देंगे, किसानों को नुकसान भी नहीं होने देंगे, नई यूनिवर्सिटी का ऐलान

क्या है धनराज हत्याकांड
थाना सैंया के रजपुरा गांव से तीसरी कक्षा में पढने वाला करीब आठ साल का मासूम धनराज 1 सितम्बर को घर से अचानक गायब हो गया था। परिजनों ने थाना सैंया में उसके अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। घर का नौकर भी उसी दिन से फरार था। गिरफ्त में आने के बाद शातिर नौकर अनिल की निशान देही पर गांव के पास बाजरा के खेत से मासूम का कंकाल पुलिस ने बरामद किया था। पुलिस को पूछताछ के दौरान शातिर ने बताया कि धनराज ने उसका खेलते समय मोबाइल तोड दिया था।इसी का बदला लेने के लिए पशुओं के बहाने से उसे खेत पर ले गया और बाजरा के खेत में हाथ पैर बांध कर उसकी निर्दीयता से हत्या कर दी थी। इस हृदय विदारक घटना को अंजाम देने वाले शातिर को अपनी करतूत पर अभी पछतावा नहीं है।

यह भी पढ़ें- यूपी के इस शहर में सर्किल दरें बढ़ीं तो आ जाएगी आफत, ADF ने मुख्यमंत्री को बताया कि क्या होगा नुकसान

सनकी की घर वालों से थी दूरी
मासूम की नृशंस हत्या करने वाला सनकी अनिल थाना ईरादनगर के गांव बृथला का रहने वाला है। वह बहुत ही गुस्से वाला है। घरों में भी आतंक मचाता था, जिससे घर वाले भी उसे पसन्द नहीं करते थे। ज्यादातर वह घर से फरार रहता था। कभी ढावों ,कभी होटलों तो कभी किसी के घर छोटा मोटा करने के लिए निकल जाता था। कई बार ढावों व होटलों पर भी सेंटी हो जाता था और ग्राहकों को मारने के लिए उतारु हो जाता था। उसकी इन हरकतों से घर वाले डांटते थे तो वह घर वालों से भी दूरी बनाकर रखता था।

यह भी पढ़ें- New motor vehicle act 2019 पर यूपी के राज्य मंत्री का बड़ा बयान, देखें वीडियो
घटना लें सबक
आगरा मानसिक स्वास्थ्य संस्थान के सीएमएस डॉ दिनेश राठौर ने बताया कि ऐसी मनोदशा के लोगों से सामान्यतः दूरी बनाकर रखनी चाहिए। खासकर परिवारों में ऐसे लोग जरा-जरा सी बात पर विवाद करने लगते हैं। धुन सवार होने पर खुद से कमजोर या बच्चों पर यह जल्दी हमला करते हैं। थाना सैंया के रजपुरा में हुई मासूम की नृशंस हत्या से लोगों को सबक लेना चाहिए। घर में नौकर रखें या ड्राईवर, सबसे पहले उसके व्यवहार का पता जरूर लगायें। बिना किसी सम्पर्क के नये व्यक्ति को काम पर न रखें। आज के समय में पुलिस वेरिफिकेशन कराना भी अनिवार्य है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned