4 दिन से पड़ा है Anand Pal Singh का शव, Gangster की पत्नी से पुलिस ने कहा 24 घंटे में ले जाओ वरना...

4 दिन से पड़ा है Anand Pal Singh का शव, Gangster की पत्नी से पुलिस ने कहा 24 घंटे में ले जाओ वरना...

suchita mishra | Publish: Jun, 28 2017 03:19:00 PM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

राजस्थान के Gangster Anand Pal Singh को लेकर ज्योतिषाचार्य की भविष्यवाणी हो गयी सच।

आगरा। Anand Pal Singh के पुलिस Encounter को लेकर सब लोग अपनी अलग-अलग राय दे रहे है हैं, लेकिन ज्योतिषाचार्यों की मानें तो Anand Pal पर पितृदोष भारी पड़  गया, जिसके चलते उसका एनकाउंटर अमावस की रात को हुआ।

Anand Pal Singh Gangster राजस्थान का रहने वाला था। ज्योतिषियों की मानें तो उसकी कुण्डली में पितृदोष ही उसकी मौत का कारण बना। जिसकी कुंडली में पितृदोष होता है उस व्यक्ति के लिए अमावस और पूर्णिमा की रात दोनों ही भारी होती हैं। आनंद पाल सिंह को भी पितृदोष की जानकारी थी जिसके लिए उसके शुभचिंतकों ने उसे इस दोष को दूर कराने की सलाह भी दी थी, लेकिन पुलिस के साथ लुका-छिपी का खेल खेलते आनंदपाल को इस दोष के निवारण कराने का समय नहीं मिल पाया।

अमावस की अलग-अलग रातों को आनंदपाल पर तीन बड़े हमले हुए। जब पुलिस और कानून के हाथ 15 नवम्बर 2012 को पहली बार आनंदपाल की गिरेबान तक पहुंचे तो रेणवाल फागी में वह सरेंडर कर अपने आप को बचाने में सफल हो गया। उस दिन दीपावली का दिन था और वो रात अमावस की काली रात थी।

दूसरी बार भी जब फरवरी 2016 को भी फरारी के दौरान Anand Pal Singh को नागौर के आसपास देखा गया और पुलिस ने उसका पीछा किया। Anand Pal ने पुलिस पर फायरिंग की जिससे पुलिस के एक सिपाही खेमाराम की मात हो गई। उस काली रात में भी आनंदपाल पुलिस को गच्चा देने में सफल रहा, लेकिन तीसरी अमावस की रात जब आनंदपाल सिंह को रतनगढ़ के पास मालासर में SOG ने घेर लिया। ये अमावस आनंदपाल सिंह पर भारी रही और एके-47 जो हमेशा उसको मौत से बचाती थी वो भी आनन्दपाल को नहीं बचा पाई और पुलिस की गोलियों ने आनंदपाल को ढेर कर दिया।

बहरहाल, एसओजी और police की अन्य टीमों की अपनी मेहनत थी, लेकिन अमावस की रात का ये काला सच भी कहीं न कहीं जिंदगी में अपना वजूद रखता है। हालांकि ज्योतिषियों के कथन में कितनी सच्चाई है वो दूसरा विषय है, लेकिन गणित कहती है कि पितृदोष के चलते ही अमावस की काली रात आनंदपाल पर भारी पड़ी। हालांकि आनंदपाल एक बार मौत से बचने के लिए आगरा भी आया था और वहां वो 8 दिन रुका भी था।

Ad Block is Banned