गैंगस्टर आनंद पाल सिंह की मौत के बाद Yogi Adityanath की बढ़ गयी टेंशन! गुप्त तरीके से होगा हमला! 

गैंगस्टर आनंद पाल सिंह की मौत के बाद Yogi Adityanath की बढ़ गयी टेंशन! गुप्त तरीके से होगा हमला! 

सूत्रों की माने तो मौत के बाद भी यूपी में योगी सरकार के लिए Gangster Anand Pal Singh बड़ी मुसीबत बनने जा रहा है

आगरा। गैंगस्टर आनंद पाल सिंह राजस्थान में मारा गया लेकिन इसकी गूँज यूपी तक पहुंचेगी, अगर सूत्रों की माने तो मौत के बाद भी यूपी में योगी सरकार के लिए Anand Pal Singh बड़ी मुसीबत बनने जा रहा है. अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ने जयपुर ( राजस्थान ) में बंद का ऐलान किया है, जिसमें यूपी के लोगों से भी सहयोग मांगा गया है। Gangster Anandpal Singh के समर्थन में Rajasthan के जयपुर को बंद करने के समर्थन में क्षत्रिय महासभा के पदाधिकारी गुपचुप तरीके से जुड़ गए हैं। बृज के कई हिस्सों से Anand Pal की मौत के बाद आवाजें उठना तेज हो गई हैं।

क्षत्रिय समाज ने छेड़ी मुहिम
अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ने आनंद पाल की मौत के बाद सोशल मीडिया पर मुहिम छेड़ रखी है। इन लोगों ने आनंद पाल के एनकाउंटर पर सवाल उठाये और पुलिस से जवाब भी मांगा । सोशल मीडिया के जरिए गैंगस्टर की मौत के बाद पुुलिस प्रशासन के साथ साथ शासन पर भी कई आरोप लगाए जा रहे हैं। गौरतलब है कि राजस्थान का मोस्ट वांटेड आनंद पाल जुर्म की दुनिया में एक बड़ा नाम था। कई दिनों तक उसने यूपी के आगरा शहर में शरण ली थी। उस वक्त उसने क्षत्रिय समाज में अपना नेटवर्क बनाया था। अब उसकी मौत के बाद उसके परिजनों ने बृज के उसके नेटवर्क से मुहिम में साथ देने के लिए सहयोग मांगा है।
Anand Pal Singh
गुपचुप कर करे समर्थन
सोशल मीडिया पर फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, आगरा के हिस्सों में क्षत्रिय समाज का समर्थन आनंद पाल को मिल रहा है। सोशल मीडिया पर उसे हीरो की छवि के रूप में पेश किया जा रहा है। गौरतलब है कि बृज के इन हिस्सों में क्षत्रियों से नेटवर्क जुड़ने के चलते यहां के लोग उसे सपोर्ट भी कर रहे हैं। लेकिन अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के पदाधिकारी खुलकर सामने नहीं आ रहे हैं। सूत्र बताते हैं कि वे उसे गुपचुप तरीके से समर्थन कर रहे हैं। जैसे ही आनंद पाल की मौत की खबर आयी थी, जोरदार आवाजें उठनी शुरू हो गई थी।

बृज में है तगड़ा सपोर्ट
क्षत्रिय महासभा का इन दिनों यूपी की सरकार को पूरा समर्थन प्राप्त है। गौरतलब है कि बृज में 65 सीटों में से 57 पर भाजपा ने जीत हासिल की है। ​इनमें कई सीटें ऐसी हैं, जिन पर क्षत्रिय समाज का दबदबा है। विशेषज्ञों का कहना है कि आनंद पाल की मौत के बाद इसका असर भाजपा सरकार के वोट बैंक पर पड़ सकता है। क्षत्रिय महासभा के चलते योगी सरकार को गैंगस्टर की मौत का खामियाजा कई जगहों से उठाना पड़ सकता है।

Ad Block is Banned