इन ब्रांडेड दवाओं के सैंपल हुए फेल, दवा व्यवसाईयों के उड़े होश

इन ब्रांडेड दवाओं के सैंपल हुए फेल, दवा व्यवसाईयों के उड़े होश
इन ब्रांडेड दवाओं के सैंपल हुए फेल, दवा व्यवसाईयों के उड़े होश

Dhirendra yadav | Updated: 09 Sep 2019, 07:23:36 PM (IST) Agra, Agra, Uttar Pradesh, India

-ब्रांडेड दवाओं के सैंम्पल फेल
-सात दवाओं के लिए गये थे नमूने
-चार के नमूने फेल घोषित
-ड्रग विभाग को है तीन की रिर्पोट का इन्जार

आगरा। आगरा का दवा व्यापार ड्रग माफियाओं (Drug Maffia) का केन्द्र बन गया है। खाध सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (Food Safty and Drug Administration) की कार्रवाई में यह बड़ा खुलासा हुआ है। ब्रांडेड दवाइओं की डुप्लीकेशी कर नकली दवाओं की तश्करी (Smugglig) जा रही थी। 9 जुलाई को मालवा ट्रांसपोर्ट पर करीब 21 लाख रुपये की कीमत की दवा औषधि विभाग ने छापामार कार्रवाई (Partisan action) के दौरान पकड़ी थी, जिसमें सात में से चार दवाईयों के नमूनों की रिर्पोट आ गई है। जांच रिर्पोट में चारों दवाओं के नमूने फेल पाये गये हैं। थाना एत्माद्दौला (Etmaddoula) शाहदरा क्षेत्र स्थित मालवा ट्रांसपोर्ट प्रकरण में औषधि विभाग ने करीब 63 लाख रुपये की कीमत का फैंसीडिल सिरप (Phensedyl Syrup) भी बरामद किया था, जिसे ई-वे बिल दिखाने के नाम पर छोड़ दिया गया था। जिलाधिकारी आगरा एनजी रवि कुमार ने जब औषधि विभाग (Drug) से जबाव-तलब किया तो हरकत में आये ड्रग अधिकारियों ने तीन फर्मों के लाईसेन्स निरस्त कर दिये थे। जांच में सैंपल फेल होने के बाद ड्रग विभाग ने माफियाओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी कर ली है।

इन दवाओं के सैंम्पल हुए फेल
ड्रग विभाग ने मालवा ट्रांसर्पोट से कुल 21 लाख रुपये की दवाईयां जब्त की थीं। इनमें 16 लाख की फ्रेश दवाईयां और 5 लाख की सैंम्पल की दवाईयां शामिल थीं। औषधि निरीक्षक राजकुमार शर्मा ने बनाया कि फ्रेश दवाईयों में से कुल सात नमूने लिये गये जिसमें से चार दवाओं के नमूने फेल पाये गये हैं जबकि तीन की रिर्पोट आना बाकी है। यह सभी दवाईयां ब्रांडेड कम्पनी की डुप्लीकेसी कर बाजार में बिक्री के लिए लाई गई थी। पकड़ी गई दवाईयों में Cipex625, rec-xim, acipex, C AZ tablets शामिल हैं।

क्या हुई कार्रवाई
आगरा दवा व्यवसाय का बड़ा केन्द माना जाता है। जहां दवा माफियाओं ने डेरा जमा लिया है। आगरा से कई राज्यों में नकली व नशीली दवाओं की तश्करी की जा रही है। मालवा ट्रांसर्पोट पर हुई छापेमारी से नकली व नशीली दवाईयों के अवैध कारोबार का भांडा फोड़ हुआ है। ड्रग विभाग ने इस मामले में दोषी पाई गई तीन फर्मों के लाईसेन्स निरस्त किये हैं। विभाग ने दवाओं के सैंम्पल फेल होने के बाद माफियाओं की पहचान कर मुकदमा दर्ज कराने की कार्रवाई शुरू कर दी है।

इनके हुए लाईसेन्स निरस्त
ड्रग विभाग ने नकली व नशीली दवाईयों की तश्करी में आगरा की तीन फर्मों को दोषी पाया था। जिनमें संजय प्लेस स्थित एचबी इंटरप्राइजेज, कर्मयोगी कमला नगर स्थित हर्ष एजेंसी व फव्वारा मार्केट स्थित एके इंटरप्राइजेज के ड्रग लाइसेंस निरस्तीकरण की कार्रवाई ड्रग विभाग ने की है। 21 लाख रुपये की दवा के दावेदार को ड्रग अधिकारियों ने खोज निकाला है। ड्रग निरीक्षक राजकुमार शर्मा ने बताया कि यह दवा मालवा ट्रांसर्पोट पर एके गुप्ता व अरुण कुमार लेकर पहुंचे थे। इनके खिलाफ जल्द ही मुकदमा दर्ज कराया जायेगा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned