भारत को टीबी मुक्त बनाने को शुरू हुई मुहिम, छात्र—छात्राओं को किया जागरूक

— राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के तहत चलाया गया जागरूकता अभियान, टीबी मुक्त भारत की बनाई परिकल्पना।

By: arun rawat

Published: 03 Mar 2021, 12:54 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
फिरोजाबाद। भारत को टीबी मुक्त बनाने के लिए सरकार और स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगातार अभियान चलाए गए हैं। अब उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में भी शहरवासियों ने भारत को टीबी मुक्त करने के लिए अभियान शुरू कर दिया है। राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन के तहत जनआधार कल्याण समिति द्वारा जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया।
यह भी पढ़ें—

आगरा में पंचायत चुनाव को लेकर आरक्षण जारी, कहां से कौन लड़ सकेगा चुनाव देखिए सूची

विद्यालय में हुआ आयोजन
विद्यालय डायरेक्टर जफरुल इस्लाम की अध्यक्षता में थाना रसूलपुर क्षेत्र के अंतर्गत डाकबंगला स्थित मौला अली इण्टर कॉलेज में एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान विद्यालय के छात्र छात्राओं ने एकजुट होकर टीबी मुक्त भारत बनाने का संदेश दिया। जिला क्षयरोग नियंत्रण केंद्र की जिला कार्यक्रम समन्वयक आस्था तौमर व जिला पीपीएम समन्वयक मनीष कुमार, सुपरवाइजर प्रखर गांधी सहित जनआधार कल्याण समिति सचिव प्रवीन कुमार शर्मा ने क्षयरोग से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां देते हुए बताया कि जब तक मरीज पूर्ण रुप से स्वस्थ नहीं हो जाता है तब तक सम्पर्क में रहने वाले सभी सदस्यों को विशेष रूप से बातचीत करते समय शारीरिक दूरी के साथ साथ सदैव मास्क का प्रयोग करना चाहिए।

फेफड़ों में हो सकती है परेशानी
समय पर सही तरीके से इलाज न लेने पर फेफड़ा संबंधी रोग टीबी का रूप ले लेती है। टीबी से ग्रसित लोगों के परिजनों को यह बीमारी न लगे इसके लिए विशेष सतर्कता की आवश्यकता होती है। स्वास्थ्य विभाग टीम द्वारा समय समय पर चलाए जाने वाले अभियान में छह साल से छोटे बच्चों को आईएनएच टेबलेट और उपचार कराने वाला व्यक्ति एमडीआर मरीज न हो जाये इसके लिए उन्हें भी उचित परामर्श देते हुए नियमित दवा खाने, पंजीकृत मोबाइल नंबर को सदैव चालू रखने व नियमित दवा का सेवन करने के की सलाह दी जाती है। सरकारी योजना के तहत टीबी मरीजों को 500 रुपए प्रति माह की दर से खान-पान में सुधार के लिए उनके खाते में भेजे जाते हैं। इस कार्यक्रम में अवसर जनआधार कल्याण समिति के अंकेक्षक विजय कुमार वर्मा, अंकित वर्मा सहित महक, इकरा, अल्फरा, अलीशान, अल्तमश, साज़िद, सुहैल, शुमायला, रिहान, सैफ, अमन, आदिल, इलमा व अन्य छात्र छात्राएं और शिक्षक मौजूद रहे।

arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned