स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नहीं लेते सम्मान, चाहते हैं शराबबंदी

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नहीं लेते सम्मान, चाहते हैं शराबबंदी

Abhishek Saxena | Publish: Aug, 12 2018 10:40:45 AM (IST) | Updated: Aug, 12 2018 10:41:56 AM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

चिम्मनलाल जैन ने पिछले कई सालों से 15 अगस्त को मिलने वाले सम्मान को ठुकराया, प्रशासन और सरकार से चाहते हैं यूपी में लागू हो शराब बंदी, शराबबंदी के लिए कर कर हैं आंदोलन

आगरा। देश की आजादी में अपना योगदान देने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के सम्मान भी माना जाता है 15 अगस्त। आजादी के दीवानों ने तमाम मुश्किलों का सामना कर देश की आजादी में अपनी अहम भूमिका निभाई। जिला प्रशासन द्वारा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को सम्मानित किया जाता है। लेकिन, आगरा में एक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी ऐसे भी हैं जो पिछले कई सालों से प्रशासन द्वारा दिए जाने वाले सम्मान को ग्रहण नहीं कर रहे हैं। उनकी मांग है कि प्रदेश में शराब बंदी लागू हो। लेकिन, प्रदेश में सरकार द्वारा शराब बंदी लागू करने की कोई रणनीति नहीं बनाई गई।

शराब बंदी के लिए चला रहे हैं आंदोलन
देश की आजादी में भूमिका निभाने वाले 95 वर्षीय वयोवृद्ध स्वतंत्रता संग्राम सेनानी चिम्मनलाल जैन पिछले कई सालों से प्रशासन द्वारा दिए जा रहे सम्मान को त्याग रहे हैं। पत्रिका टीम ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी चिम्मन लाल जैन से बात की तो उन्होंने कहा कि यूपी के वृंदावन सहित कई स्थानों पर प्रदेश सरकार ने शराब बंदी लागू कर दी है। सरकार की इच्छा शक्ति उत्तर प्रदेश में पूर्ण शराब बंदी लागू करने की नहीं है। ऐसे में वे स्वतंत्रा दिवस पर दिए जाने वाले सम्मान को नहीं ले सकते हैं। वयोवृद्ध स्वतंत्रा संग्राम सेनानी चिम्मन लाल जैन का कहना है कि विनोवा भावे ने देश में युवाओं की उन्नति का स्वपन देखा था। युवा देश की तरक्की का जरिया होते हैं। जब युवा पीढ़ी ही नशे की आदी हो रही है तो देश का भविष्य गर्त में जाने का खतरा हर समय मंढराता रहता है। इसलिए वे चाहते हैं कि सरकार पूर्ण शराब बंदी कानून लाए और प्रदेश में इसे लागू करे।

कई बार दे चुके हैं आत्मदाह की चेतावनी
गौरतलब है कि वयोवृद्ध स्वतंत्रा संग्राम सेनानी चिम्मन लाल जैन कई बार जिला प्रशासन को शराब बंदी लागू कराने के लिए आत्मदाह की चेतावनी दे चुके हैं। जिला प्रशासन और पुलिस के अफसर लगातार उनकी चेतावनी पर अलर्ट रहे हैं और उन्हें मनाने के प्रयास किए गए।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned