दलित छात्रा संजलि हत्याकांड में समाज ने उठाई बड़ी मांग, भाजपा विधायक पर बोला करारा हमला

संजलि हत्याकांड में आज हुई थी आंबेडकर अनुयायियों की महापंचायत, दलित समाज ने भाजपा विधायक डॉ.जीएस धर्मेश पर लगाए समाज का साथ ना देने के आरोप

 

By:

Published: 30 Dec 2018, 05:12 PM IST

आगरा। दलित छात्रा संजलि की पेट्रोल डालकर की गई हत्या में पुलिस ने खुलासा कर दिया है। लेकिन, दलित समाज के लोग इस खुलासे से संतुष्ट नहीं है। रविवार को आंबेडकर अनुयायियों ने संजलि को न्याय दिलाने के लिए महापंचायत का ऐलान किया था। चक्कीपाट में हुई महापंचायत में दलित समाज जुटा और संजलि के परिजनों को मुआवजे की राशि एक करोड़ रुपए दिलाने की मांग उठाई। वहीं पुलिस पर आरोप लगाए कि मृत युवक को झूठा फंसाकर इस मामले में खुलासा किया गया है। परिवारीजनों को खुलासे के सबूत ही नहीं दिखाए गए।

sanjali,  <a href=Sanjali murder , dalit girl sanjali, agra, up crime news, sanjali murder" src="https://new-img.patrika.com/upload/2018/12/30/bhim_3905447-m.jpg">

परिजनों ने भी जताई असहमति
संजलि की हत्या के बाद पुलिस के खुलासे पर परिजनों समेत समाज के लोग पुलिस के दावों से असहमत है। इसीके चलते जाटव समाज की महापंचायत रकाबगंज थाना क्षेत्र के चक्की पाट में हुई। भीम नगरी आयोजन समिति के भरत सिंह ने कहा कि महापंचायत में संजलि के परिजनों को एक करोड़ रुपये मुआवजे की मांग के साथ साथ सीबीआई से इसकी जांच कराने के लिए भी समाज ने आवाज उठाई। वहीं परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दिलाने की बात भी उठी। पंचायत में पहुंचे विभिन्न वक्ताओं ने पुलिस पर राजनीतिक दबाव में गलत पर्दाफाश करने का आरोप लगाए। वहीं दलित समाज की महापंचायत में भाजपा विधायक पर करारा हमला किया। वक्ताओं ने भारतीय जनता पार्टी के छावनी क्षेत्र के विधायक डॉ.जीएस धर्मेश के इस महापंचायत में शामिल नहीं होने पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की। संजलि न्याय मोर्चा का भी गठन हुआ।

sanjali, sanjali murder, dalit girl sanjali, agra, up crime news, sanjali murder

पुलिस कर चुकी है खुलासा
गौरतलब है कि मलपुरा के लालऊ निवासी संजलि को 18 दिसंबर मंगलवार के दिन स्कूल से घर लौटते समय पेट्रोल डालकर जला दिया गया था। उसकी मौत के बाद तहेरे भाई योगेश ने भी आत्महत्या कर ली थी। पुलिस के मुताबिक योगेश और उसके ममेरे भाई समेत तीन ने घटना की थी। इसके तमाम सुबूत भी पुलिस ने परिजनों को दिखाए, लेकिन वे इसे मानने को तैयार नहीं हैं। समाज के संगठन भी उनके समर्थन में आ गए हैं। डॉ. आंबेडकर अनुयायी और बहुजन समाज ने सोशल मीडिया के माध्यम से रविवार को महापंचायत का एलान किया था।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned