अस्पताल में ही कराएं प्रसव, कई बातों का ध्यान रखना जरूरी

-सीएमओ कार्यालय में महिला एवं बाल विकास विभाग के अंतर्गत हुआ प्रशिक्षण

-आगरा, मैनपुरी, फिरोजाबाद और मथुरा के जिला रिसोर्स ग्रुप के सदस्यों ने हिस्सा लिया

आगरा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय के सभागार में महिला एवं बाल विकास विभाग के अंतर्गत मंडल के चारों जिलों आगरा, मैनपुरी, फिरोजाबाद व मथुरा के जिला रिसोर्स ग्रुप के सदस्यों का दो दिवसीय आईएलए माड्यूल का एसआरजी सदस्यों द्वारा प्रशिक्षण दिया गया। जिसमें प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले सभी सदस्यों को प्रसव पूर्व तैयारी के बारे में जानकारी दी गई। बताया गया कि सभी को प्रेरित करना है कि प्रसव अस्पताल में ही हो। साथ ही कई जरूरी बातों का ध्यान रखना भी आवश्यक है।

यह भी पढ़ें

Career tips: मेडिकल के क्षेत्र में बनाना है कॅरियर, chemistry की इस तरह करनी होगी तैयारी

Doctors

अस्पताल में रखें हर समय तैयारी

इस मौके पर घर या अस्पताल में होने वाले प्रसव, गर्भावस्था के दौरान तैयारी, परिवार नियोजन एवं शिशुओं की शारीरिक वृद्धि का आंकलन जैसे सभी विषयों पर विस्तारपूर्वक प्रकाश डाला गया। प्रशिक्षण में जिला कार्यक्रम अधिकारी साहब सिंह यादव ने सभी प्रतिभागियों को सफलतापूर्वक प्रशिक्षण लेकर अपने जिले में भी गुणवत्तापूर्वक प्रशिक्षण कैसे दिया जाए, इस विषय पर भी मार्गदर्शन किया। उन्होंने बताया कि ज्यादातर परिवार अस्पतालों में प्रसव कराना चाहते हैं। मगर कुछ परिवार घर पर ही प्रसव कराना चाहते हैं, परन्तु जो परिवार घर पर भी प्रसव कराना चाहते हैं, उन्हें भी आखिरी समय पर कुछ जटिलताओं के चलते अस्पताल जाना पड़ सकता है। इसलिए हर परिवार को अस्पताल में प्रसव कराने की तैयारी करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें

जेपी नड्डा की रैली के लिए भीड़ जुटाने में भाजपाइयों के छूटे पसीने, ऐन वक्त पर बची 'लाज'

Doctors

समस्याओं से अवगत कराया

इस दौरान प्रतिभागियों ने रोल प्ले कर समुदाय स्तर पर आने वाली समस्याओं को अवगत कराया। कार्यक्रम में अम्बुज यादव, राजवीर वर्मा प्रशिक्षक के रूप में मौजूद रहे। प्रशिक्षण कार्यक्रम में मंडल के सभी जिलों से बाल विकास विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ सहयोगी संस्थाएं यूनीसेफ की मंडलीय समन्वयक ममता पाल व टाटा ट्रस्ट के जिला स्वस्थ्य भारत प्रेरक भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें

Haj Yatra 2020: हज सेवकों के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू

अस्पताल का चयन कैसे करें

जिला कार्यक्रम अधिकारीसाहब सिंह का कहना है कि गर्भवती महिला के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है। सही अस्पताल का चयन, प्रशिक्षित नर्स और डॉक्टर की उपलब्धता, 24 घंटे स्वास्थ्य सेवा की उपलब्धता, दिन या रात में आसानी से पहुंचने लायक क्षेत्र के अस्पताल में गर्भवती को ले जाना चाहिए। वाहन व्यवस्था, मां और बच्चे के लिए कपड़ा, साथ में जाने के लिए लोगों का पर्याप्त इंतजाम, जरूरी कागजात होना भी जरूरी है। शिशु के जन्म के बाद तुरंत केवल स्तनपान, गर्भनाल की देखभाल, शिशु को गर्माहट देना, नवजात की देखभाल में स्वच्छता और विशेष ध्यान देना चाहिए

Show More
suchita mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned