गणतंत्र दिवस पर आगरा और फिरोजाबाद समेत अन्य शहरों में नक्शा पास कराने पर महंगाई की मार

— विकास प्राधिकरण से नक्शा पास कराने पर पहले की अपेक्षा देने होंगे अधिक रूपए, जेबों पर बढ़ेगा बोझ।

By: arun rawat

Published: 26 Jan 2021, 12:46 PM IST

आगरा। गणतंत्र दिवस पर नक्शा पास कराने पर महंगाई की मार पड़ी है। अब आगरा, अलीगढ़, फिरोजाबाद और मथुरा समेत कई शहरों में नक्शा पास कराने पर विकास शुल्क बढ़ाने का फैसला सरकार ने लिया है। इससे मकान बनाने वालों को अधिक पैसा खर्च करना पड़ेगा। सरकार के इस फैसले का शहरवासियों ने विरोध किया है।

कोरोना के चलते परेशान हैं लोग
आगरा, अलीगढ़, मथुरा—वृंदावन और फिरोजाबाद में नक्शा पास कराने पर की गई विकास शुल्क की वृद्धि का विरोध करते हुए आगरा निवासी रवि कौशिक ने कहा कि कोरोना के चलते लोग पहले से परेशान थे। कोरोना की मार से अभी तक बाजार उभरा नहीं है और इसी बीच कैबिनेट की बैठक में विकास शुल्क वृद्धि कर दी गई। विकास शुल्क के संबंध में 2014 में बनी नियमावली में तमाम विषमताओं को दूर करने के लिए आवास एवं नियोजन विभाग ने ‘उप्र नगर योजना और विकास (विकास शुल्क का निर्धारण, उद्ग्रहण एवं संग्रहण)( प्रथम संशोधन) नियमावली-2021’ तैयार किया था, जिसे मंजूरी के लिए कैबिनेट में रखा गया था।

बदली पुरानी व्यवस्था
पुरानी विकास शुल्क नियमावली-2014 में पांच श्रेणियों में 400 से 2500 रुपये प्रति वर्ग मीटर के हिसाब से विकास शुल्क लेने की व्यवस्था थी। प्रस्ताव में आवास विभाग ने 12 शहरों के विकास शुल्क को कम करने और अधिकतर शहरों में में विकास शुल्क बढ़ाने का सुझाव दिया। विकास शुल्क की दरों का संशोधन हर साल वित्तीय वर्ष में 15 फरवरी को गत वर्ष के आयकर विभाग के कॉस्ट इन्फ्लेशन इंडेक्स के आधार पर संशोधित करते हुए 1 अप्रैल से लागू करना होगा।


इन शहरों में की गई विकास शुल्क में बढ़ोत्तरी (प्रति वर्ग मीटर)
शहर पुराना दर नया दर

आगरा 1400 रुपये 2040 रुपये
अलीगढ़ 700 रुपये 850 रुपये
मथुरा-वृंदावन 700 रुपये 850 रुपये
फिरोजाबाद-शिकोहाबाद 400 रुपये 850 रुपये

Show More
arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned