योगी आदित्यनाथ के आने से पहले अपहृत फिरोजाबाद का वकील धौलपुर के बीहड़ से मुक्त

50 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी

बीहड़ में बंधक बनाकर रखा था

सोमवार की रात्रि में मिली सफलता

By: Bhanu Pratap

Published: 18 Feb 2020, 09:41 AM IST

आगरा। आखिरकार वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार की रणनीति काम आई। 14 दिन पहले आगरा से अपहृत फिरोजाबाद का वकील अकरम अंसारी को मुक्त करा लिया गया। सुरेन्द्र गुर्जर गैंग ने वकील को आगरा-राजस्थान की सीमा पर धौलपुर के बीहड़ में बंधक बनाकर रखा था। उसे यातनाएं दी गईं। अपहृत के परिजनों से 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी गई है। बात खुल जाने के बाद बदमाशों ने संपर्क भंग कर दिया था। वकील को मुक्त कराना पुलिस के लिए चुनौती था।

यह भी पढ़ें

Donald Trump के स्वागत के लिए अभूतपूर्व इंतजाम, मंगलवार को CM Yogi लेंगे तैयारियों का जायजा

तीन फरवरी को हुआ था अपहरण

फिरोजाबाद जिल के थाना दक्षिण के अंतर्गत मोहल्ला राजपूताना निवासी वकील अकरम अंसारी तीन फरवरी, 2020 को आगरा आए थे। आवास विकास कॉलोनी में अपने रिश्तेदार से मिले। रिश्तेदार ने कारगिल चौराहे के पास ऑटो में बैठा दिया था। इसके बाद उनका कोई पता नहीं चला। कोई पता न चलने पर परिजनों ने थाना सिकंदरा में गुमशुदगी दर्ज कराई। चार फरवरी को अकरम के भाई असलम पर फोन आया कि अकरम की रिहाई के बदले 50 लाख रुपये देने होंगे। इस बारे में पुलिस को सूचना दी गई तो अपहरण का मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

यह भी पढ़ें

जर्जर और कमजोर पुल से गुजरेगा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का काफिला, पहले से लगा है चेतावनी का बोर्ड

गैंग का सरगना गिरफ्तार

पुलिस महानिरीक्षक ए सतीश गणेश ने अकरम अंसारी को मुक्त कराने के लिए पुलिस के दल बनाए। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार स्वयं निगरानी कर रहे थे। बदमाशों की लोकेशन धौलपुर में मिलने के बाद पुलिस ने वहां डेरा डाल दिया। बीहड़ में तलाश की गई। सोमवार की रात्रि में पुलिस ने धौलपुर के बाड़ी में एक मकान से अकरम अंसारी को मुक्त करा लिया। पुलिस ने मौके से गैंग के सरगना सुरेन्द्र गुर्जर को गिरफ्तार किया है। गैंग के सदस्य हनुमंत दास, उग्रसेन, लाखन आदि को भी गिरफ्तार करने की सूचना है। पुलिस पूरे मामला का खुलासा आज प्रेसवार्ता कर करेगी।

यह भी पढ़ें

यमुना में मिले दो नवजात शव, जांच में जुटी पुलिस

वकील कर रहे थे आंदोलन

याद रहे कि अकरम अंसारी के लिए अधिवक्ता आंदोलन कर रहे थे। आगरा में वकीलों ने जुलूस निकाला था। फिरोजाबाद में अधिवक्ता कार्य से विरत थे। लगातार सड़क पर आकर आंदोलन कर रहे थे। उधर, पुलिस के सामने समस्या यह थी कि मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आगरा आ रहे हैं। आशंका थी कि मुख्यमंत्री के सामने वकील कहीं बवाल न कर दें। इसलिए पुलिस ने दो दिन पूरी ताकत लगाई और वकील को मुक्त करा लिया

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned