मानसून में महामारी का रूप ले रही ये बीमारी, Doctor ने बताया घरेलू उपचार, देखे वीडियो

-इस मौसम में हर तीसरा व्यक्ति Fungal infection का शिकार
-15 दिन दी जाने वाली दवा दो महीने खिलानी पड़ रही
-तेल न लगाएँ, दोनों समय ठंडे पानी से देर तक नहाएं

आगरा। सरोजनी नायडू मेडिकल कॉलेज, आगरा (SN Medical college) के त्वचा रोग विभाग (Dermatology department) के पूर्व विभागाध्यक्ष डॉ. पीके सिंह (Dr PK singh) ने बताया कि इस मौसम में हर तीसरा व्यक्ति फंफूदीय संक्रमण (Fungal infection) का शिकार है। यह पशुओं को दिए जाने वाले विदेशी भोजन से फैल रहा है। दवाइयां (Medicins) असर नहीं कर रही हैं। त्वचा रोग विशेषज्ञ के रूप में बात करें तो स्थिति भयावह है।

ये भी पढ़ें - #Bakrid2019: ईद उल जुहा की नमाज, ताजमहल से मांगी गई देश में अमन चैन की दुआ

एक दवा की जगह दो देनी पड़ रही
पत्रिका से बातचीत में डॉ. पीके सिंह ने बताया कि मानसून में पसीने की वजह से हर तीसरे व्यक्ति को फंगल इनफेक्शन (Fungal infection) हो रहा है। आजकल दवाइयां काम नहीं कर रही हैं। दवाइयां फंगल इनफेक्शन (Fungal infection) के लिए प्रतिरोधी हो गई हैं। जो दवा 15 दिन के लिए दी जाती थी, वह दो महीने खिलानी पड़ रही है। एक दवा की जगह दो देनी पड़ रही हैं। इस मौसम में फंगल इनफेक्शन (Fungal infection) के साथ ही घमौरियां की समस्या अधिक है, जो बहुत खतरनाक है।

ये भी पढ़ें - #CareerTips डांस में अपना करियर कैसे बनायें, एक बार मिला मौका, तो पैसों की नहीं रहेगी कोई कमी

पहले पुरुषों में अधिक होता था
उन्होंने बताया कि जहां पतलून बांधा जाता है, वहां अधिक खुजली हो रही है। इसका कारण यह है कि वहां पसीना अधिक आता है। फंगल इनफेक्शन पहले पुरुषों में अधिक होता था। खासतौर पर अंतःवस्त्र वाले स्थानों पर। दो साल से महिला, पुरुष और बच्चों में समान रूप से हो रहा है।

ये भी पढ़ें - #Sawan2019 आखिरी somvar को जब खुले Mankameshwar mandir के कपाट, उमड़ा भक्तों का रेला, देखें वीडियो

क्या है कारण
डॉ. पीके सिंह ने बताया कि विदेशों में जानवरों को हरा चारा के स्थान पर अन्य फूड्स खिलाए जाते हैं। इसमें एंटी फंगल दवाइयां दी जाती हैं। इसका चलन अपने यहां भी हैं। पशुओं का दूध हम तक पहुंचता है। वहां से मानवों में आ रहा है। इसी कारण फंगल संक्रमण की बीमारी भयावह रूप ले रही है।

ये भी पढ़ें - #Bakrid कुर्बानी के लिए Online बेचे जा रहे बकरे, भारत के कई राज्यों से ऑर्डर

क्या करें
शरीर पर तेल न लगाएँ। दोनों समय ठंडे पानी से देर तक नहाएं। निर्वस्त्र होकर नहाएं। सूती कपड़े पहनें। खुजली वाले कपड़े अलग रखें। उन्हें गर्म पानी में धोएं। अगर समस्या अधिक है तो योग्य चिकित्सक को दिखाएं।

ये भी पढ़ें - Article 370 के नाम पर दो-तीन परिवार हजारों करोड़ रुपये का बंदरबांट कर रह थे, देखें वीडियो

दवाइयां सस्ती हों
डॉ. पीके सिंह ने स्वीकार किया कि त्वचा रोगों की दवाइया आजकल महंगी हैं। सरकार को चाहिए कि सस्ती करे। उन्होंने यह भी कहा कि सभी प्रकार की दवाइयां सस्ती होनी चाहिए। प्रधानमंत्री जनऔषधि परियोजना की दवा की गुणवत्ता पर कहा कि लोग शिकायत कर रहे हैं। जेनरिक दवा के नाम पर जो दवाइयां जो आ रही हैं, उनकी शिकायत है। इनकी डबल डोज देनी पड़ रही है। मैं डीसीजीआई की विशेषज्ञ समिति का सदस्य हूं। समिति की बैठक में हम सलाह देते रहते हैं।

Show More
धीरेंद्र यादव
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned