मिलिए खतरों की खिलाड़ी इस महिला से, स्टंट देख दहल जाएगा दिल, देखें वीडियो 

 मिलिए खतरों की खिलाड़ी इस महिला से, स्टंट देख दहल जाएगा दिल, देखें वीडियो 

Dhirendra yadav | Publish: Mar, 07 2017 04:11:00 PM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

पल्लवी फौजदार के नाम एेसी-एेसी उपलब्धियां हैं जिन्हें जानकर आप भी चौंक जाएंगे।

आगरा। आज प्रदेश ही नहीं देश में पल्लवी फौजदार एक एेसा नाम बन चुका है, जिसे देखकर देश की हर लड़की उनके जैसा नाम कमाना चाहती है। आगरा की पल्लवी फौजदार एक आइडियल बन चुकी हैं। उनके नाम एेसी-एेसी उपलब्धियां हैं जिन्हें जानकर आप भी चौंक जाएंगे। वह देश की पहली एेसी महिला बाइकर हैं, जिन्होंने बाइक से 18 हजार फीट की ऊंचाई तक का सफर पूरा कर दो बार लिम्का बुक में अपना नाम दर्ज कराया है। प्रदेश सरकार ने उन्हें लखनऊ में कार्यक्रम आयोजित कर ग्लोबल वूमन आॅफ यूपी का सम्मान दिया है। पत्रिका टीम  के साथ पल्लवी का खास बातचीत। 

Women

आर्मी में हैं पति
आगरा की रहने वाली पल्लवी फौजदार के पति इंडियन आर्मी में मेजर हैं। उनके दो बच्चे भी हैं। इन सब के बावजूद भी पल्लवी 18,497 फीट की ऊंचाई तक बाइक ले जाने वाली देश की पहली महिला हैं। उनका नाम लिम्का बुक ऑफ रिकाॅर्ड्स में दर्ज हो चुका है। पल्लवी ने बताया कि उन्हें बाइक चलाने का जुनून बचपन से ही है। वह आम जिंदगी में भी लंबी दूरी का सफर बाइक से ही करना पसंद करती हैं। उन्हें कभी भी किसी ने बाइक चलाने से मना नहीं किया, बल्कि सभी ने उनका हौंसला बढ़ाया। जिस कारण उन्हें यह उपलब्धि हासिल हुर्इ है।

देखें वीडियो -


दुर्गम रास्तों पर चलार्इ बाइक
पल्लवी ने बताया कि एडवेंचर बाइकिंग की शुरुआत 20 सितंबर 2015 को दिल्ली के इंडिया गेट से की थी। वे पहले बद्रीनाथ गर्इ आैर फिर वहां से एक किलोमीटर दूर देश का आखिरी गांव मना पहुंची। गांव से 55 किलोमीटर आगे मना पास पड़ता है, यहां पूरा कच्चा रास्ता है, पल्लवी ने यह दूरी छह घंटे में तय की। वे दुर्गम रास्ते पर अपनी बाइक से चलती हुर्इ सबसे ऊंची लेह-लद्दाख के काक संगला की पहाड़ियों तक पहुंची और 24 सितंबर को मना पास में अपने पैर जमा लिए। करीब एक सप्ताह के बाद 27 सितंबर को वापस दिल्ली लौट आर्इं।

देखें वीडियो -



लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज है नाम
पल्लवी ने पांच हजार मीटर से अधिक के हिमालय की आठ चोटियों पर बाइक से सफर पूरा किया है। पहले इसके लिए उनका नाम लिम्का बुक में दर्ज किया गया था। करीब चार हजार किलोमीटर का सफर उन्होंने 18 दिन में पूरा किया था। इस दौरान वे लुचुंगला, तंगलांगला, खार्दुंगला, वारीला, चांग्ला, मरसिमिकला, सताथोला और काकसंगला तक गई थीं। इसके बाद उन्होंने 18,497 फुट ऊंचाई पर स्थित मना पास (डुंगरीला) की बाइक से राइड पूरी की। इस कारनामे के लिए उनका नाम लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड्स में दर्ज किया गया है। अपने इस रिकॉर्ड को गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में भी दर्ज कराने के लिए जुट गई हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned