Hindi Diwas 2018 Special : 27 देशों के छात्र छात्राएं को हिन्दी की ललक

Hindi Diwas 2018 Special : 27 देशों के छात्र छात्राएं को हिन्दी की ललक

Abhishek Saxena | Publish: Sep, 14 2018 11:13:20 AM (IST) | Updated: Sep, 14 2018 01:55:32 PM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

Hindi Diwas Special : केंद्रीय हिन्दी संस्थान में आए विदेशी छात्र, पहली बार कैमरून के विद्यार्थी सीखेंगे हिन्दी

आगरा। आज हिन्दी दिवस है। हिन्दी को दुनिया में बुलंद रखने के लिए केंद्रीय हिन्दी संस्थान पिछले कई वर्षों से काम कर रहा है। हिन्दी संस्थान द्वारा गैर हिन्दी भाषी राज्यों में भी हिन्दी का प्रचार प्रसार किया जा रहा है। गैर हिन्दी भाषी राज्यों में छात्रों को हिन्दी पढ़ाई जा रही है। केंद्रीय हिन्दी संस्थान 51 वर्षों से हिन्दीतर क्षेत्रों के हिन्दी शिक्षकों को प्रशिक्षित कर रहा है। संस्थान द्वारा एक लाख से अधिक हिन्दी शिक्षक प्रशिक्षण ले चुके हैं। हर वर्ष करीब 400 शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। वहीं विदेशों में हिन्दी का परचम बुलंदियों को छू रहा है। इस बार 27 देशों के विद्यार्थी हिन्दी सीखेंगे।

ये खबर भी पढ़ सकते हैं: हिन्दी का ये है महत्व, जानिए विश्व में किस स्थान पर है हिन्दी


सौ सीटों पर प्रवेश के लिए आपाधापी
आगरा के केंद्रीय हिन्दी संस्थान में हिन्दी भाषा सीखने के लिए हर वर्ष विदेशी छात्र छात्राएं आते हैं। यहां हिन्दी भाषा की सौ सीटें हैं। संस्थान के निदेशक प्रो.नंद किशोर पाण्डेय ने बताया कि सौ सीटों पर प्रवेश की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। अब तक 50 विदेशी छात्राएं भारत में हिन्दी सीखने के लिए संस्थान आ चुके हैं जिनकी कक्षाएं प्रारंभ हो चुकी है। हर वर्ष सैकड़ों छात्र छात्राएं हिन्दी सीखने के लिए आवेदन करते हैं, जिनके चयन के आधार पर उन्हें यहां प्रवेश मिलता है। हिन्दी सीखने की ललक विदेशी छात्राओं में देखने को मिल रही है।

ये खबर भी पढ़ सकते हैं: हिन्दी को ऐसे बचाकर रखा, गैर हिन्दी भाषी राज्यों में बढ़ा हिन्दी का महत्व

इन देशों के छात्र छात्राओं ने लिया प्रवेश
केंद्रीय हिन्दी संस्थान में हिन्दी सीखने के लिए श्रीलंका, अर्मेनिया, रोमानिया, रूस, अजरबैजान, बुलगारिया, थाईलैंड, त्रिनिदाद एंड टोबैगो, तुर्की, बांग्लादेश, चीन, अफगानिस्तान, फिलिपींस, तजाकिस्तान, सूरीनाम, यूक्रेन, इजिप्ट, वियतनाम, गुयाना, हंगरी, इटली, जापान, मंगोलिया, पोलैंड, उजबेकिस्तान के छात्र छात्राओं का चयन किया गया है। पहली बार कैमरून के छात्र हिन्दी सीखने के लिए चयनित किए गए हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned