अध्यापक से आईपीएस बने आगरा के नये एसएसपी की कहानी जानकर रह जाएंगे हैरान, अपराधियों के लिए किसी बड़े संकट से कम नहीं...

अध्यापक से आईपीएस बने आगरा के नये एसएसपी की कहानी जानकर रह जाएंगे हैरान, अपराधियों के लिए किसी बड़े संकट से कम नहीं...
SSP Agra

Dhirendra yadav | Updated: 08 Jun 2019, 11:56:25 AM (IST) Agra, Agra, Uttar Pradesh, India

अयोध्या से आईपीएस अधिकारी जोगेन्द्र कुमार को आगरा के नये एसएसपी के रूप में कमान मिली है।

आगरा। एसएसपी अमित पाठक का ट्रांसफर मुरादाबाद कर दिया है, इसके साथ ही अयोध्या से आईपीएस अधिकारी जोगेन्द्र कुमार को आगरा के नये एसएसपी के रूप में कमान मिली है। आईपीएस जोगेन्द्र कुमार की कहानी हैरान कर देने वाली है। पढ़िये एक शिक्षक से आईपीएस अधिकारी बनने का सफर।

ये भी पढ़ें - वन विभाग की टीम पर फिर हमला, खनन माफियाओं ने कर दी फायरिंग, देखें वीडियो

2007 बैच के आईपीएस हैं जोगेन्द्र कुमार
2007 बैच के आईपीएस अधिकारी जोगेन्द्र कुमार सिंह मूल रूप से राजस्थान के बारमेड़ जिले के रहने वाले हैं। आईपीएस जोगेंद्र कुमार वर्तमान समय में अयोध्या के एसपी के पद पर तैनात थे, उन्हें आगरा में नये एसएसपी के रूप में तैनाती दी गई है।

ये भी पढ़ें - अमित पाठक ने किए ऐसे काम कि सदा रहे चर्चा में, मुरादाबाद के SSP बनाए गए, जोगेन्द्र कुमार अयोध्या से आगरा आए

मां का था ये सपना
एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने राजस्थान बाड़मेर से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद राजस्थान यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएशन कंप्लीट किया। उनके पिता श्रीराम पूनियां स्कूल में टीचर थे। मां गौरी देवी का सपना था कि, वह पुलिस की नौकरी में जाएं।

ये भी पढ़ें - इस IPS के ट्रांसफर से पूरा शहर बैचेन, किया ऐसा काम कि सभी को बना लिया अपना मुरीद

शिक्षक से बने पुलिस अधिकारी
वर्ष 2001 के बाद वे कॉलेजों में टीचर के पद पर काम करते रहे। 2004 के बाद उन्होंने ACTO की नौकरी ज्वॉइन कर ली। हालांकि, इस दौरान उनके मन में पुलिस की नौकरी पाने की इच्छा भी थी। इसके बाद 2006 में वे पुलिस सर्विसेस की परीक्षा में बैठे और 2007 में उन्हें बैच मिला।

ये भी पढ़ें - हिन्दी के लिए राम मंदिर से भी बड़े आंदोलन की जरूरत, देखें वीडियो

तेज तर्रार छवि
आईपीएस जोगेन्द्र कुमार तेज तर्रार छवि रखते हैं। अपराधियों में उनका खौफ रहता है। उन्होंने अयोध्या में कई बड़े मामलों का पर्दाफाश किया। मऊ में एसपी के पद पर तैनात रहते हुये उन्होंने 18 अप्रैल 2012 को 15 हजार के ईनामी बदमाश धीरज सिंह और विकास सिंह को मार गिराकर एक पांच के साल के मासूम समेत 15 हजार लोगों की जान बचाई थी। ये ऑपरेशन करीब 4.5 घंटे चला था, जिसके बाद वे चर्चा में आये।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned