भक्ति के मेले में आस्था की भीड़, देखें वीडियो 

भक्ति के मेले में आस्था की भीड़, देखें वीडियो 
kailash temple

Dhirendra yadav | Updated: 25 Jul 2017, 09:53:00 AM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

आगरा। सावन के तीसरे सोमवार को कैलाश मंदिर पर आयोजित मेले में श्रद्धा और भक्ति का सैलाब उमड़ा। सुबह से देर रात मंदिर परिसर हर-हर महादेव और बोल बम के उद्घोष और घटे-घड़ियाल व शंख ध्वनि से गुंजायमान रहा। शाम होते ही मेले की रौनक में चार चांद लग गए। कैलाश मंदिर से सिकंदरा स्मारक तक नेशनल हाईवे दो पर पैर रखने तक की जगह नहीं मिल पा रही थी। 

रविवार शाम हुआ शुभारम्भ 
कैलाश मेले का उद्घाटन रविवार की शाम एससी आयोग के अध्यक्ष डॉ. रामशंकर कठेरिया ने किया था। रात दो बजे मंदिर में एक ही जलहरी में विराजमान महर्षि परशुराम और उनके पिता जमदग्नि ऋषि द्वारा स्थापित शिवलिंगों की पूजा-अर्चना महंत निर्मल गिरि द्वारा कराई गई। सुबह चार बजे शिवभक्तों के लिए मंदिर के पट खोल दिए गए। चार बजे से मंदिर में कांवड़ चढ़ाने का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह सुबह 10 बजे तक चला। शिव के दर्शनों को शिवभक्तों की लंबी कतारें लग गई। रात तक यही सिलसिला चला। यमुना के दर्शन को भी लोगों की भीड़ लगी रही। यमुना में बढ़े जलस्तर को देख पुलिस मुस्तैद रही। मंदिर प्रबंध समिति द्वारा गोताखोर लगाए गए थे।

देखें वीडियो  -


भव्य हुआ भोले बाबा का श्रृंगार
शाम को साढे़ सात बजे भगवान भोलेनाथ का भव्य श्रृंगार किया गया। रात आठ बजे आरती हुई। रात 11 बजे से मंदिर में अभिषेक शुरू हुए, जो एक बजे तक चले। कैलाश मेले में आस्था भारी रही। कैलाश मेले में सोमवार को शिवभक्तों द्वारा नेशनल हाईवे समेत कैलाश मंदिर मार्ग पर प्याऊ लगाई गईं, भंडारे का आयोजन किया गया। शिवभक्तों को शर्बत के साथ ही प्रसाद का वितरण किया गया। 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned