करवाचौथ: कहीं खुशी कहीं गम, ऐसी है तांतपुर की दर्दनाक कहानी...

एक ओर महिलाएं कर रहीं तैयारी, तो दूसरी और 1 हजार विधवाओं का छलका दर्द।

आगरा। करवाचौथ यानि वो व्रत जो पति की लंबी उम्र के लिए महिलाएं रखती हैं। ये व्रत बेहद कठिन होता है, क्योंकि पूरे दिन बिना अन्नजल ग्रहण किए, इस व्रत का पालन करना होता है। फिर भी महिलाएं इस व्रत के लिए काफी उत्सुक होती हैं। सप्ताहभर पूर्व से ही तैयारी शुरू कर दी जाती है। सोलह श्रृंगार कर महिलाएं मां करवा का पूजन करती हैं। ये नजारा तांतपुर में भी देखने को मिलता है, लेकिन यहां दर्द उन महिलाओं का भी देखने को मिलता है, जिनका बेहद कम उम्र में सुहाग छिन चुका है। आइये बताते हैं, इस गांव की कहानी।

तांतपुर की कहानी
आगरा से करीब 70 किलोमीट दूर राजस्थान की सीमा से सटा तांतपुर का जीवन बेहद साधारण है। 60 फीसद से अधिक आबादी गरीब श्रमिकों की है, जो पत्थर खदान का काम करते हैं। साफ शब्दों में कहा जाए, तो यहां पत्थर के अलावा लोगों के पास कोई अन्य रोजगार नहीं है। इस क्षेत्र में पत्थर के पहाड़ हैं। बस यही रोजगार बन गया यहां के लोगों का। पत्थर के क्रैशर लगे हुए हैं, जिनमें लोगों को रोजगार मिलता है। गरीब श्रमिक पत्थर खदान में काम करके अपना जीवन यापन करते हैं।


चुन रहे अपनी मौत
ये गरीब श्रमिक रोजगार की आड़ में अपनी मौत को चुन रहे हैं। ये हम नहीं, बल्कि यहां के लोगों का ही कहते हैं। दरअसल पत्थर खदान में काम करने वाले श्रमिकों को सिलोकोसिस नाम की गंभीर बीमारी हो जाती है। इस बीमारी के कारण यहां के श्रमिकों की उम्र भी औसतन 40 से 45 वर्ष की रह गई है।


यहां की महिलाओं का दर्द
तांतपुर की बात करें, तो यहां पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं की संख्या अधिक है। आंकड़ों के अनुसार महिलाओं की संख्या 10 फीसद अधिक है। वहीं उम्र की बात करें, तो पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं की उम्र भी 40 फीसद तक अधिक है। बड़ी बात तो ये है कि इन महिलाओं का सुहाग कम उम्र में छिन जाता है और फिर इनके पास जीने का कोई सहारा नहीं होता। लंबी उम्र को या तो अपनी छोटी सी संतान या फिर ये अकेले ही गुजारती हैं।


खुशी कहीं गम
तांतपुर में ऐसा नहीं है कि करवाचौथ का व्रत नहीं रखा जाता है। सुहागन महिलाएं इस व्रत को रखती हैं, और मां करवा से पति की दीर्घआयु के लिए कामना भी करती हैं। लेकिन सुहागिनों के इस उत्सव में दर्द उन महिलाओं का छलकता है, जो कम उम्र में विधवा हो चुकी हैं।

Show More
धीरेंद्र यादव
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned