scriptkisan samman nidhi was stopped for 30 thousand farmers know the reason | कोरोना संकट के बीच अन्नदाताओं के लिए नई परेशानी, 30 हजार किसानों की सम्मान निधि रुकी, जानिए क्या है वजह | Patrika News

कोरोना संकट के बीच अन्नदाताओं के लिए नई परेशानी, 30 हजार किसानों की सम्मान निधि रुकी, जानिए क्या है वजह

- तीन से चार बार आवेदन करने के बावजूद 22 हजार किसानों के फॉर्म का नहीं हुआ सत्यापन

- इस कारण नहीं मिल पा रहा सालाना छह हजार रुपये की सम्मान निधि का लाभ

आगरा

Published: May 29, 2020 02:39:40 pm

आगरा. कोरोना संकट के बीच पहले ही तमाम मुश्किलें झेल रहे आगरा के किसानों के लिए बुरी खबर है। यहां 30 हजार से ज्यादा किसानों की सम्मान निधि रोक दी है। इसका कारण आधार कार्ड में गलती और खाते से लिंक न करना बताया गया है।

कोरोना संकट के बीच अन्नदाताओं के लिए नई परेशानी, 30 हजार किसानों की सम्मान निधि रुकी, जानिए क्या है वजह
कोरोना संकट के बीच अन्नदाताओं के लिए नई परेशानी, 30 हजार किसानों की सम्मान निधि रुकी, जानिए क्या है वजह

ये है वजह

जिला कृषि अधिकारी डॉ. रामप्रवेश वर्मा के मुताबिक इन 30 हजार किसानों के आधार कार्ड और खसरा-खतौनी में नाम, पता, पिता का नाम आदि कई तरह की गलतियां होने के कारण आवेदन में असमानता है। वहीं कुछ का आधार कार्ड उनके खाते से लिंक नहीं है। इस कारण चार किश्त के बाद 30 हजार किसानों की धनराशि रोकी गई है। शासन ने ऐसे सभी किसानों की अगली किश्त को रोककर संशोधन कराने के लिए कहा है।

यहां कराएं संशोधन

जिला कृषि अधिकारी का कहना है कि किसान न्याय पंचायत या फिर कृषि विभाग से संशोधन करा सकते हैं। संशोधन के बाद उन्हें यहां प्रार्थना देना होगा। इसके बाद ही इन्हें सालाना छह हजार रुपए वाली इस योजना का लाभ मिल सकेगा। बता दें कि वर्ष 2011 की जनगणना के मुताबिक कृषि विभाग में 2.69 लाख किसान पंजीकृत है। उनमें से 2.65 लाख किसानों के आवेदन के बाद उनके खाते में सम्मान निधि भेजी जा रही थी। 2.65 लाख किसानों में से 30 हजार किसानों की सम्मान निधि रोकी गई है।

22 हजार किसानों को आवेदन के बावजूद नहीं मिल रहा लाभ

इन 30 हजार किसानों के अलावा 22 हजार किसान ऐसे भी हैं जो कई बार आवेदन करने के बावजूद सम्मान निधि का लाभ नहीं ले पा रहे हैं। तीन से चार बार फॉर्म भरकर जमा करने के बावजूद फॉर्म का सत्यापन नहीं किया गया। इस मामले में जिला कृषि अधिकारी डॉ. रामप्रवेश वर्मा का कहना है कि इन 22 हजार किसानों के आवेदन सत्यापन के लिए लेखपाल के पास भेजे गए हैं। किसान आगे कि स्थिति को जानने के लिए अपने क्षेत्र के लेखपालों से संपर्क कर सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

IPL 2022: टिम डेविड की तूफानी पारी, मुंबई ने दिल्ली को 5 विकेट से हराया, RCB प्लेऑफ मेंपेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसऑस्ट्रेलिया के चुनावों में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन हारे, एंथनी अल्बनीज होंगे नए PM, जानें कौन हैं येगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दजापान में होगा तीसरा क्वाड समिट, 23-24 मई को PM मोदी का जापान दौरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.