भगवान शिव के पुत्र कार्तिकेय का दर्शन करना महिलाओं के लिए मना, दर्शन किए तो सात जन्म तक रहेंगी विधवा...

भगवान शिव के पुत्र कार्तिकेय का दर्शन करना महिलाओं के लिए मना, दर्शन किए तो सात जन्म तक रहेंगी विधवा...
lord shiva son kartikeya

Dhirendra yadav | Publish: Dec, 01 2018 01:35:07 PM (IST) Agra, Agra, Uttar Pradesh, India

कुमार कार्तिकेय ने कहा कि जन्म के दिन पूर्णिमा को जो दर्शन करेगा, उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी।

आगरा। भगवान शिव के पुत्र भगवान कार्तिकेय के दर्शन करने से हर मनोकामना पूरी होती है, लेकिन स्त्रियों के लिए ये दर्शन निषेद है। ये कहना है श्रीमनकामेश्वर मंदिर के महंत योगेश पुरी का। महंत योगेश पुरी ने बताया कि भगवान कार्तिकेय ब्रह्मचर्य व्रती थे, जिसके कारण स्त्रियों का दर्शन निषेद माना गया है। कहा ये जाता है, स्त्री दर्शन करेंगी तो सात जन्म विधवा रहेगी।

ये है जन्म की कहानी
जब पिता दक्ष के यज्ञ में भगवान शिव की पत्नी 'सती' कूदकर भस्म हो गईं, तब शिवजी विलाप करते हुए गहरी तपस्या में लीन हो गए। उनके ऐसा करने से सृष्टि शक्तिहीन हो जाती है। इस मौके का फायदा दैत्य उठाते हैं और धरती पर तारकासुर नामक दैत्य का चारों ओर आतंक फैल जाता है। देवताओं को पराजय का सामना करना पड़ता है। चारों तरफ हाहाकार मच जाता है तब सभी देवता ब्रह्माजी से प्रार्थना करते हैं। तब ब्रह्माजी कहते हैं कि तारक का अंत शिव पुत्र करेगा। इंद्र और अन्य देव भगवान शिव के पास जाते हैं, तब भगवान शंकर 'पार्वती' के अपने प्रति अनुराग की परीक्षा लेते हैं और पार्वती की तपस्या से प्रसन्न होते हैं और इस तरह शुभ घड़ी और शुभ मुहूर्त में शिवजी और पार्वती का विवाह हो जाता है। इस प्रकार कार्तिकेय का जन्म होता है।कार्तिकेय तारकासुर का वध करके देवों को उनका स्थान प्रदान करते हैं। पुराणों के अनुसार षष्ठी तिथि को कार्तिकेय भगवान का जन्म हुआ था इसलिए इस दिन उनकी पूजा का विशेष महत्व है।

 

ये था शाप
हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार प्रथम पूज्य देव होने की प्रतियोगिता में छोटे भाई गणेश के जीत जाने पर गुस्से में भगवान शिव व देवी पार्वती के बड़े पुत्र कार्तिकेय तपस्या करने क्रांउस पर्वत पर चले गए थे। जब उन्हें मनाने के लिए ढूंढ़ते हुए जब शिव-पार्वती पहुंचे तो कुमार कार्तिकेय ने शाप दिया था कि स्त्री दर्शन करेंगी तो सात जन्म वह विधवा रहेंगी। शंकर-पार्वती ने आग्रह किया कि कोई ऐसा दिन हो जब आपके दर्शन हो सकें। तब कार्तिकेय का गुस्सा शांत हुआ, और उन्होंने सिर्फ एक दिन अपने भक्तों को दर्शन के लिए निर्धारित किया। कुमार कार्तिकेय ने कहा कि जन्म के दिन पूर्णिमा को जो दर्शन करेगा, उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होंगी। इस कारण ही उनके दर्शन साल में एक बार ही होते हैं।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned