भरतपुर के पूर्व महाराज की उत्तर प्रदेश सरकार को खुली चुनौती, देखें वीडियो

Bhanu Pratap

Publish: Jan, 14 2018 06:34:33 (IST)

Agra, Uttar Pradesh, India

भरतपुर के महाराजा पूर्व सांसद विश्वेन्द्र सिंह ने गोवर्धन पहुंचकर उत्तर प्रदेश सरकार को मन्दिर अधिग्रहण मामले में सरकार को खुली चुनौती दी है।

गोवर्धन (मथुरा)। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गोवर्धन पर्वत के सरंक्षण को लेकर श्री श्राइन बोर्ड का गठन कर प्रमुख मंदिरों के अधिग्रहण के मामले में अब नया मोड़ आ गया है। भरतपुर के महाराजा पूर्व सांसद विश्वेन्द्र सिंह ने गोवर्धन पहुंचकर उत्तर प्रदेश सरकार को मन्दिर अधिग्रहण मामले में सरकार को खुली चुनौती दी है। उन्होंने कहा कि दसविसा मुकुट मुखारविंद मन्दिर उनके पूर्वजों की विरासत है। पहले हम हाइकोर्ट से जीते। फिर सुप्रीम कोर्ट ने भरतपुर रॉयल फैमिली रिलीजियस एंड सेरिमोरियल ट्रस्ट के पक्ष में इस मन्दिर को लेकर फैसला किया है। ट्रस्ट इस मन्दिर का प्रबन्धक है। यहां के ब्राह्मण समाज के द्वारा सेवा पूजा की जा रही है।

मंदिर अधिग्रहण की बात भूल जाए

उन्होंने कहा कि यहां आकर देखा तो लगा कि भक्तों के लिए और भी व्यवस्थाएं और सुख सुविधाएं होनी चाहिए। यंहा गन्दगी मिली है। साफ़ सफाई की विशेष आवश्यकता है। उत्तर प्रदेश सरकार मन्दिर के अधिग्रहण की बात भूल जाए। सरकार सुप्रीम कोर्ट से बड़ी नहीं है। सुप्रीम कोर्ट सरकार को भी बर्खास्त भी कर सकता है। भरतपुर रॉयल फैमिली रिलीजियस एंड सेरिमोरियल ट्रस्ट ही यहां भक्तो के लिए बेहतर व्यवस्थाएं करायेगा। गोवर्धन में श्री श्राइन बोर्ड के गठन के मामले में विरोध के चलते राजा के पहुंचते ही हलचल मच गई। यहां हजारों सेवायत अधिग्रहण के विरोध में हैं। सरकार लख़नऊ से घोषणा कर चुकी है।

सपत्नीक पूजा अर्चना कर मांगी
भरतपुर रियासत के राजा विश्वेन्द्र सिंह अपनी पत्नी महारानी दिव्या सिंह पूर्व सांसद व पुत्र कुंवर अनिरुद्ध सिंह के साथ मानसी गंगा के तट स्थित मुकुट मुखारविंद मन्दिर पहुँचे। विधि विधान से पूजा अर्चना की। मन्दिर की प्रमुख शिला पर माल्यार्पण किया। इसके बाद दूध चढ़ाया। फिर राजा के मन्दिर तलहटी पहुँचे।

 

साथ में पहुँचे अवागढ़ के नरेश कुँवर नरेंद्र सिंह
गोवर्धन पहुंचे राजा विश्वेन्द्र सिंह का स्वागत अवागढ़ के नरेश व राष्ट्रीय लोकदल के जिलाध्यक्ष कुँवर नरेंद्र सिंह ने किया। भरतपुर रियासत के कुलपुरोहित रहे गोवर्धन निवासी विनोद लवानियां एडवोकेट, सिद्ध सिद्धांत योग एकेडमी के प्रबंधक दाऊ दयाल लवानियां एडवोकेट ने भी स्वागत किया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned